ताज़ा खबर
 

ब्राह्मण कारोबारी ने बीफ बैन पर किया ट्वीट-हिंदुत्व भोजन का अधिकार छीनता है तो मैं हिंदू नहीं हूं, अकाउंट करना पड़ा डिलीट

कयूर जोशी ने लिखा, "अगर हिंदू धर्म अपनी मर्जी का खाना खाने से रोकता है तो बेहतर होगा कि मैं हिंदू न रहूं।"

Author June 2, 2017 10:02 am
मेक माय ट्रिप ने कयूर जोशी के ट्वीट को उनके निजी विचार बताते हुए कहा कि कंपनी का इससे कोई वास्ता नहीं है। (फोटो सोर्स ट्विटर)

पूरे देश में गाय और बीफ को लेकर चल रही चर्चाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। मेक माई ट्रिप मोबाइल ऐप के सह-संस्थापक और स्ट्रैटेजिक एडवाइजर कयूर जोशी को बीफ पर दो ट्वीट करना भारी पड़ी। कयूर ने बुधवार (31 मई) को ट्विटर पर लिखा था कि वो “नरेंद्र मोदी के प्रबल समर्थक हैं” और कारोबारी हैं लेकिन “खाने की आजादी के समर्थन में” बीफ खाएंगे। ट्वीट में जोशी ने लिखा, “अगर हिंदू धर्म अपनी मर्जी का खाना खाने से रोकता है तो बेहतर होगा कि मैं हिंदू न रहूं।” जोशी ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि “नरेंद्र मोदी और भाजपा ये नहीं तय कर सकते कि लोग क्या खाएंगे?”

जोशी ने बाद में अपने ट्वीट के साथ ही अपना ट्विटर अकाउंट भी डिलीट कर दिया लेकिन भाजपा समर्थकों ने #BoycottMakeMyTrip हैशटैग के साथ मेक माइ ट्रिप का बहिष्कार करने की अपील करने लगे। भाजपा समर्थक सोशल मीडिया पर लोगों से मेक माई ट्रिप का ऐप डिलीट करने के लिए कहने लगे। जोशी के ट्वीटर से नाराज यूजर्स ने मेक माई ट्रिप ऐप को सबसे खराब रेटिंग देने के लिए कहने लगे।

जिन लोगों ने #BoycottMakeMyTrip हैशटैग के साथ मेक माई ट्रिप ऐप के खिलाफ ट्वीट किए उनमें से कम से कम छह को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने निजी ट्विटर अकाउंट से फॉलो करते हैं। इनमें से एक नीरज दवे उन शुरुआती लोगों में थे जिन्होंने इस हैशटैग से ट्वीट करने शुरू किए।

अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट करने से पहले जोशी ने लिखा, “बीफ पैन पर किए गए मेरे ट्वीट केवल मेरी निजी राय हैं फिर भी उनसे किसी की भावनाएं आहत हुई हों तो उनसे माफा चाहूंगा। मैं अनचाहे में उन्हें कष्ट पहुंचाने के लिए दिल से क्षमा चाहता हूं।” मेक माई ट्रिप ने ट्वीट करके जोशी के ट्वीट को उनका निजी विचार बताया और कहा कि उनके बयान से कंपनी का कोई संबंध नहीं है। हालांकि मेक माई ट्रिप का बयान आने के बाद कई घंटे तक सोशल मीडिया पर उसके खिलाफ कैंपेन जारी रहा।

वीडियो- काजोल की 'बीफ लंच' वीडियो पर सफाई: "जो दिखाया गया था वो भैंस का मीट था, जो कि वैध तरीके से उपलब्ध है"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App