ताज़ा खबर
 

60 दिनों के अंदर ईडी फाइल नहीं कर सकी चार्जशीट, यस बैंक घोटाले के आरोपियों को मिली जमानत

बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बावजूद दोनों भाई सीबीआई से जुड़े केस की वजह से अभी जेल में ही रहेंगे।

Yes Bank, Fraud Case, EDडीएचएफएल के प्रमोटर कपिल वाधवा।

यस बैंक फ्रॉड केस में आरोपी बनाए गए बिजनेस टायकून्स वाधवा बंधुओं को बॉम्बे हाईकोर्ट की तरफ से जमानत मिल गई है। दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन के प्रमोटर कपिल और धीरज वाधवान को प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में आरोपी बनाया है। हालांकि, ईडी 60 दिन की अवधि के बाद भी चार्जशीट नहीं दाखिल कर पाई, जिसके बाद जस्टिस भारती दांगरे की एक जज की बेंच ने वाधवा बंधुओं को जमानत दे दी। कोर्ट ने दोनों को एक-एक लाख रुपए और पासपोर्ट जमानत के तौर पर देने के निर्देश दिए हैं।

वाधवा बंधुओं ने ईडी की तरफ से चार्जशीट दाखिल होने में देरी को ही जमानत याचिका का आधार रखा। हालांकि, दोनों भाई अभी जेल में ही रहेंगे, क्योंकि सीबीआई ने भी उन पर मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में केस दर्ज किया है। वाधवा भाइयों को मुंबई के पास स्थित हिल स्टेशन महाबालेश्वर से 26 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था।

बता दें कि वाधवा बंधुओं को यस बैंक घोटाले में फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के लिए राणा कपूर के साथ सह-आरोपी बनाया गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने 14 मई को उन्हें गिरफ्तार किया था। इसके बाद 15 जुलाई को दायर चार्जशीट में वाधवा बंधुओं के साथ यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर, उनकी पत्नी बिंदू कपूर, बेटी रोशनी और रेखा और चार्टर्ड अकाउंटेंट दुलारेश के जैन के नाम शामिल किए थे। ईडी ने इस मामले में सीबीआई की तरफ से केस दर्ज किए जाने के बाद कार्रवाई शुरू की थी।

वाधवा भाई सीबीआई की उस प्राथमिकी में आरोपी बनाए गए हैं जो यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर और अन्य द्वारा पैसों की ठगी किए जाने से जुड़ी हुई है। एजेंसी ने आरोप लगाया कि 62 वर्षीय राणा कपूर ने यस बैंक के जरिए डीएचएफएल को वित्तीय मदद देने के नाम पर वाधवा भाइयों के साथ मिलकर साजिश रची और बदले में उनके नाम पर चल रही कंपनियों के माध्यम से खुद को और अपने परिवार को अनुचित लाभ दिलाया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना काल में नौकरी गंवाने वाले कर्मचारियों को सरकार ने दी राहत, तीन महीने तक मिलेगा 50 फीसदी वेतन
2 सावरकर को 1924 में अग्रेंजो से 60 रुपए प्रतिमाह पेंशन किस बात के लिए मिलती थी?- कांग्रेस नेता का सवाल, पढ़िए लोगों के जवाब
3 प्रशांत भूषण केस: सुप्रीम कोर्ट ऑर्डर में दर्ज नहीं AG की मौजूदगी, की थी सजा नहीं देने की अपील, जज ने बीच में ही काट दी थी दलील
IPL 2020 LIVE
X