ताज़ा खबर
 

हमारी याद आएगी: बीआर चोपड़ा-जब कलाकार के जुनून ने निर्माता को झुकाया

फिल्मी दुनिया में कहा जाता है कि हर भूमिका अपना भाग्य लेकर पैदा होती है और उस ‘भाग्यवान’ तक पहुंच जाती है, जिसके लिए वाकई में वह लिखी गई होती है। फिल्मी दुनिया में इतिहास बनी ‘जंजीर’ के नायक इंस्पेक्टर विजय खन्ना की भूमिका धर्मेंद्र, देव आनंद, राजकुमार जैसे कलाकारों से होती हुई आखिर अमिताभ बच्चन को मिली थी। बीआर चोपड़ा, जिनकी आज 12वीं पुण्यतिथि है, को भी 1973 में एक नए कलाकार को वह भूमिका सौंपनी पड़ी थी, जिसके लिए वह एक नहीं दो-दो नामी कलाकारों को साइन कर चुके थे।

प्रसिद्ध निर्माता निर्देशक बीआर चोपड़ा।

वाकया 1973 का है। बीआर चोपड़ा के स्टोरी रूम में एक उभरते कलाकार को कहानी सुनाई जा रही थी। कलाकार पुणे फिल्म संस्थान से अभिनय की पढ़ाई करके निकला था। चोपड़ा का जब पुणे के इस संस्थान में जाना हुआ था, तो उन्होंने इस कलाकार से वादा किया था कि वह उसे समय आने पर मौका देंगे। संस्थान से निकलने के बाद दो फिल्में कर चुका यह कलाकार चोपड़ा साब के यहां पहुंचा था और उसने बीआर चोपड़ा को उनका वादा याद दिलाया था। लिहाजा चोपड़ा ने उसे अपने स्टोरी डिपार्टमेंट के लेखकों के बीच बिठा दिया था।

फिल्म की कहानी शेर से लड़ाई में दोनों पांव गंवा चुके गुस्सैल पति की थी, जो बात बात में गोली चलाता रहता था। उसके व्यवहार से तंग आई बीवी एक वकील से इश्क करने लगती है। एक दिन पति की हत्या हो जाती है और लाश के पास खड़ी पत्नी के हाथ में रिवॉल्वर होता है। पत्नी पति की हत्या करना स्वीकार करती है। पुलिस इंस्पेक्टर आकर मामले की जांच शुरू करता है।

कहानी सुनाने के बाद चोपड़ा ने कहा कि इस फिल्म में इंस्पेक्टर की भूमिका वह कलाकार को देना चाहते हैं। फिल्म संस्थान में दुनिया भर में बनी बेहतरीन फिल्में देखकर निकले कलाकार ने कहा कि वह तो पति की भूमिका अच्छी तरह कर सकता है। मगर चोपड़ा साब ने कहा कि यह भूमिका तो अमिताभ बच्चन को दी जा चुकी है। वह चाहे तो इंस्पेक्टर की भूमिका कर सकता है। मगर कलाकार जिद पर अड़ा था कि करेगा तो पति की भूमिका ही। इस बीच संयोग से अमिताभ बच्चन ने फिल्म छोड़ दी। कलाकार चोपड़ा साब के पास पहुंच गया। चोपड़ा साब ने झुंझलाते हुए कहा कि अमिताभ बच्चन के निकलने के बाद उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा को इस भूमिका के लिए ले लिया है। करना है तो इंस्पेक्टर की भूमिका कर लो। बात आई गई हो गई।

कुछ दिन बाद खबर आई कि फिल्म से शत्रुघ्न सिन्हा निकल गए हैं। कलाकार फिर बीआर चोपड़ा के पास गया और कहने लगा कि अब तो आप मुझे पति की भूमिका दे सकते हैं। कलाकार जिद पर अड़ा था। चोपड़ा साब ने समझाया कि अपंग, गुस्सैल और कुंठित पति की भूमिका छोटी-सी है जबकि इंस्पेक्टर की भूमिका पूरी फिल्म में है और लंबी है। मगर कलाकार पर जुनून सवार था कि करेगा तो गुस्सैल पति की भूमिका ही। अतिउत्साह में कलाकार ने अपनी तरफ से एक-दो सीन भी करके बताए कि वह कैसे इस भूमिका में जान डाल देगा।

कलाकार के जुनून को देखते हुए आखिर बीआर चोपड़ा को अपना निर्णय बदलना पड़ा। उन्होंने इंस्पेक्टर की भूमिका मदन पुरी को दे दी। जब फिल्म रिलीज हुई तो लोग कलाकार के साथ-साथ फिल्म में पत्नी पर प्लेट फेंकने वाले उस दृश्य की प्रशंसा कर रहे थे जो कलाकार ने अपनी तरफ से जोड़ा था। यह फिल्म थी ‘धुंद’ और कलाकार थे त्सेरिंग फिंत्सो डैनी डैंग्जोंग्पा यानी डैनी। ‘धुंध’ के बाद डैनी की गाड़ी फिल्मों में दौड़ने लगी थी।

Next Stories
1 वर्तमान और भविष्य: फिल्म वालों की सारी उम्मीदें अब अगले साल से जुड़ीं, 2020 में बेहाल बॉलीवुड 2021 में होगा मालामाल!
2 ताजातरीन खबर कोना: व्यावसायिक फिल्मों में भी महिलाओं को बड़ी भूमिकाएं मिलनी चाहिए : यामी गौतम
3 भारतीय विमानों की चीन में ‘नो एंट्री’, बीजिंग ने बताई ये वजह
ये पढ़ा क्या?
X