ताज़ा खबर
 

तेलंगाना: ‘बुराई’ से बचने और बारिश के लिए दलित का शव कब्र से बाहर निकाला

वहीं पुलिस ने बताया कि आरोपी ने अपराध को कबूल कर लिया है। मृतक और परिवार की गरिमा को ध्यान रखा जाएगा और आरोपी एक नई कब्र बनवा रहा है। सब इंस्पेक्टर डी लोकेश ने बताया कि मामले में अभी तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई है।

dalitतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

तेलंगाना के कोमाला गांव में अजीब सी घटना सामने आई है, जहां एक पचास वर्षीय दलित व्यक्ति मिदनाथपल्ली भिक्षाम का शव महीनों बाद महज इसलिए कब्र से खोदकर बाहर निकाला गया क्योंकि ग्रामीण का मानना था कि इससे बुराई दूर होगी और बारिश होगी। शख्स की करीब 9 महीने पहले गांव की टंकी में डूबने से मौत हो गई थी। घटना बीते मंगलवार को उस वक्त प्रकाश में आई जब एससी कॉलोनी में स्थित पड़ोसियों ने भिक्षाम के शव को खोदने की जानकारी दी। बाद में परिवार ने इस मामले की सूचना अरवापल्ली पुलिस को दी।

पीड़ित के परिजनों के मुताबिक भिक्षाम 15 दिसंबर, 2018 को पशुओं की देखभाल के लिए घर से निकले मगर कभी वापस नहीं लौटे। 22 दिसंबर को उनका विघटित शव गांव की टंकी के कीचड़ में मिला। 23 दिसंबर को पुलिस की मौजूदगी में शव का पोस्टमार्टम हुआ था तो मालूम चला कि शव के बचे हुए अवशेष टैंक में ही दफनाए गए।

पीड़ित के बहनोई एस वेंकटैया ने बताया कि कोमला या कोडुर गांव के निवासियों में से किसी ने भी तब दफनाने का विरोध नहीं किया था। बाद में हिंदुओं के एक समूह और गांव के सरपंच के बेटे और टीआरएस के सभी सदस्यों ने 28 अगस्त को मृतक को दफनाने का विरोध किया और बाकी अवशेषों को दूसरी जगह ले जाने को कहा।

एस वेंकटैया ने आगे कहा कि लोगों का कहना था कि भिक्षाम की कब्र के कारण गांव बुरी तरह प्रभावित था। इसपर परिवार ने उच्च जाति के दबाव में कब्र को स्थानांतरित करने पर सहमति व्यक्त की मगर दस दिनों का वक्त मांगा। हालांकि एक सितंबर को कोडुर के मछुआरे के मछुआरों ने देखा कि कब्र के पास बड़े टायरों के निशान थे, जिससे पता चला कि कंकाल को शिफ्ट करने के लिए ट्रैक्टर या किसी मशीन का इस्तेमाल किया गया।

वहीं पुलिस ने बताया कि आरोपी ने अपराध को कबूल कर लिया है। मृतक और परिवार की गरिमा को ध्यान रखा जाएगा और आरोपी एक नई कब्र बनवा रहा है। सब इंस्पेक्टर डी लोकेश ने बताया कि मामले में अभी तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई है।

Next Stories
1 9 साल पुरानी Maruti Alto का 144kmph की रफ्तार के लिए चालान! मजे लेने लगे लोग
2 कभी रिलायंस के खिलाफ सख्त रुख अपना चुके हैं ‘मोदी मैन’ पीके मिश्रा! पढ़ें पीएम के प्रधान सचिव से जुड़ीं दिलचस्प बातें
3 IRCTC INDIAN RAILWAYS: सामान बुकिंग का झंझट खत्म, उठाएं ‘ई-लगेज’ सुविधा का फायदा
ये पढ़ा क्या?
X