ताज़ा खबर
 

राष्ट्रपति भवन के सर्वेंट रूम से मिली कर्मचारी की लाश

पुलिस के मुताबिक त्रिलोकचंद की मौत कुछ दिनों पहले ही हो गई थी। लेकिन कमरा अंदर से बंद होने की वजह से कोई अंदर नहीं जा सका। कमरे के अंदर से जब बदबू आने लगी तो आसपास रहने वाले लोगों ने पुलिस को कमरे से बदबू आने की जानकारी दी।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

इधर राष्ट्रपति भवन के सर्वेंट क्वार्टर के एक कमरे से एक शख्स की लाश मिलने से हड़कंप मच गया है। दिल्ली के डीसीपी ने बतलाया है कि जिस कमरे से यह लाश मिली है वो कमरा अंदर से बंद था। बतलाया जा रहा है कि मरने वाला शख्स राष्ट्रपति सेकेट्रिएट में काम कर था और पिछले कुछ दिनों से उसकी तबियत ठीक नहीं थी। पुलिस ने गुरुवार (7 जून) की देर रात यह शव बरामद किया है। मृतक का नाम त्रिलोकचंद बतलाया जा रहा है। जिसकी उम्र करीब 50 साल है। हालांकि त्रिलोकचंद की मौत कैसे हुई? इस पर अभी सबकुछ साफ नहीं हो पाया है। पुलिस का कहना है कि उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है। त्रिलोकचंद प्रेसिडेंट सेकेट्रिएट में मल्टी टास्किंग स्टाफ का काम करता था।

बतलाया जा रहा है कि त्रिलोकचंद के कुल्हे की हड्डी टूटी हुई थी। उसे चलने में काफी पेरशानी होती थी। वो कई दिनों से अपने नाम से अलॉट किये गये सर्वेंट क्वार्टर नंबर 44 में रहता था। उसके साथ रहने वाले लोगों का कहना है कि उन्हें ऐसा लगता था कि त्रिलोकचंद गांधी नगर स्थित अपने आवास पर चला गया है। गांधी नगर में त्रिलोकचंद का पूरा परिवार रहता है।

पुलिस के मुताबिक त्रिलोकचंद की मौत कुछ दिनों पहले ही हो गई थी। लेकिन कमरा अंदर से बंद होने की वजह से कोई अंदर नहीं जा सका। कमरे के अंदर से जब बदबू आने लगी तो आसपास रहने वाले लोगों ने पुलिस को कमरे से बदबू आने की जानकारी दी। जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कमरा खोला और त्रिलोकचंद के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

शुरुआती जांच के बाद पुलिस को अंदेशा है कि त्रिलोकचंद की मौत हार्ट-अटैक से हुई है। हालांकि अभी मौत की वजहों पर पुलिस ने कहा है कि पोस्टमार्टम के बाद ही स्थिति पूरी तरह से साफ हो पाएगी। कमरे में बंद रहने की वजह से शव की हालत काफी खराब हो चुकी है। आपको बता दें कि त्रिलोकचंद के परिवार में पत्नी, एक बेटा और उसकी बुजर्ग मां हैं। फिलहाल अब पुलिस इस मामले की जांच करने में जुटी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पीएम मोदी को शत्रु की नसीहत- कार्यशैली बदलें, सबको एक नजर से देखें, बड़े-बुजुर्गों से करें संवाद
2 चुनाव आयोग ने दी रिपोर्ट- गर्मी और अनाड़ी स्टाफ के चलते गड़बड़ हुई थीं VVPAT मशीनें!
3 प्रणब मुखर्जी ने तोड़वा दी आरएसएस की एक परंपरा, मोहन भागवत को नहीं मिला जवाबी मौका