एक तरफ राकेश टिकैत ने योगी सरकार को चेताया तो दूसरी तरफ UP के किसानों को साधने के लिए BJP ने तैयार की रणनीति

शनिवार को योगी सरकार को चेताते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि अगर गन्ने के दामों में बढ़ोतरी नहीं की गई तो केंद्र के खिलाफ जारी आंदोलन के साथ साथ राज्य में योगी सरकार के खिलाफ भी मोर्चाबंदी शुरू हो जाएगी।

Rakesh Tikait CM Yogi
किसान नेता राकेश टिकैत (बाएं), सीएम योगी आदित्यनाथ (दाएं)। (फोटो सोर्स – पीटीआई)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों से पहले BKU के राकेश टिकैत ने किसान आंदोलन के जरिए बीजेपी की घेराबंदी तेज कर दी है। शनिवार को योगी सरकार को चेताते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि अगर गन्ने के दामों में बढ़ोतरी नहीं की गई तो केंद्र के खिलाफ जारी आंदोलन के साथ साथ राज्य में योगी सरकार के खिलाफ भी मोर्चाबंदी शुरू हो जाएगी। तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी भी किसानों को साधने की कवायद में जुट गई है। भाजपा के किसान मोर्चा की ओर से जगह-जगह किसान सम्मेलन किए जा रहे हैं। ऐसे में चुनावों से पहले किसान आंदोलन और योगी सरकार आमने आमने हो गए हैं।

राकेश टिकैत ने कहा कि गन्ने का रेट सवा चार सौ रुपये प्रति क्विंटल से एक रुपये कम मंजूर नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने 2017 में सत्ता में आने से पहले अपने घोषणा पत्र में ऐलान किया था कि गन्ने का रेट 370 रुपये प्रति क्विंटल कर देंगे, लेकिन जिस हिसाब से मंहगाई बढ़ी है उस हिसाब से रेट को भी बढ़ाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी हाल में सवा चार सौ से रेट कम नहीं होगा।

टिकैत ने कहा कि जानकारी लगी है कि यूपी सरकार राज्य में किसानों का रेट बढ़ाने की कोशिश में जुटी हुई है, यह अच्छी बात है लेकिन अगर रेट बढ़ाने के नाम पर अगर भरमाने का प्रयास हुआ तो तो भारतीय किसान यूनियन प्रदेश भर में आंदोलन करेगी। उन्होंने कहा कि गन्ने का बकाया भुगतान भी जल्दी किया जाना चाहिए और बिजली के दाम भी कम करने चाहिए। टिकैत ने याद दिलाया कि बीएसपी राज में साल 2007 में गन्ने के दामों में कुल 115 रुपये का इजाफा किया गया था, अखिलेश सरकार में गन्ने के दाम 65 रुपये प्रति क्विंटल बढ़े तो वहीं योगी सरकार में अब तक सिर्फ 10 रुपये ही बढ़े हैं।

लखनऊ में आज बीजेपी का किसान सम्मेलन: किसान आंदोलन के खिलाफ रणनीति बनाते करते हुए बीजेपी का किसान मोर्चा रविवार (26 सितंबर) को लखनऊ के डिफेंस एक्सपो ग्राउंड में किसानों का सम्मेलन कर रहा है। किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह ने समाचार चैनल से बातचीत में दावा किया कि यहां 20 हजार से ज्यादा किसान जुटेंगे। उनका कहना है कि देश, प्रदेश का किसान राकेश टिकैत को गंभीरता से नहीं लेता है, वह दो बार चुनाव लड़े लेकिन उनकी जमानत जब्त हो गई थी।

कामेश्वर सिंह ने कहा कि कृषि कानून के नाम पर न तो किसी में गुस्सा है और न किसी प्रकार के भ्रम की स्थिति है लेकिन इसकी आड़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके पीछे चंद किसान संगठन और विरोधी पार्टियां हैं, जनता की समझ में आ चुका है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट