ताज़ा खबर
 

AAP सांसद ने कोरोनाकाल में पीएम मोदी के ताली-थाली बजाने के आह्वान पर कसा तंज, भाजपा MP बोले- क्या चरखा चलाने से मिल गई थी आजादी?

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कोरोनावायरस पर चर्चा के दौरान यूपी में टेस्टिंग किट घोटाले का मुद्दा उठाया, हालांकि इस पर भी भाजपा नेता ने उन पर पलटवार किया।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: September 17, 2020 1:04 PM
Parliament, Rajya Sabha, Sanjay Singh, Sudhanshu Trivediराज्यसभा से आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह (बाएं) और भाजपा सांसद सुधांशु त्रिवेदी (दाएं)।

संसद के इस सत्र में प्रश्नकाल न होने के बावजूद सांसदों का आपस में टकराव जारी है। बहस का ताजा वाकया आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और भाजपा सांसद सुधांशु त्रिवेदी के बीच हुआ। दरअसल, राज्यसभा में आज कोरोनावायरस महामारी पर चर्चा हो रही थी। इस दौरान जब संजय सिंह की बारी आई, तो उन्होंने मार्च-अप्रैल में पीएम मोदी के ताली-थाली बजाने के आह्वान पर चुटकी लेते हुए कहा कि अगर कोरोना को भगाने के लिए ऐसी कोई रिसर्च हो, तो वे भी प्रधानमंत्री के साथ ताली-थाली बजाने के लिए तैयार हैं। हालांकि, इस पर त्रिवेदी ने संजय सिंह को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि क्या चरखा चलाने से आजादी मिली थी?

क्या कहा था संजय सिंह ने?: संजय सिंह ने अपने भाषण की शुरुआत में ही सरकार को कोरोना पर घेर लिया। उन्होंने कहा कि सदन में कल से कोरोना पर चर्चा हो रही है, लेकिन सत्ता पक्ष के लोग सिर्फ आरोप-प्रत्यारोप कर रहे हैं। सत्ता पक्ष के लोग कह रहे हैं कि विपक्ष ने ताली-थाली बजाने में सरकार का सहयोग नहीं किया। मैं कहना चाहता हूं कि एक भी ऐसी रिसर्च बता दीजिए जिसमें ताली-थाली बजाने से कोरोना ठीक हुआ हो, तो मैं प्रधानमंत्री के साथ ताली-थाली बजाने के लिए तैयार हूं।

सुधांशु त्रिवेदी से मिला जवाब: इस पर भाजपा सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि कोरोनावायरस मानव जाति के इतिहास की ज्ञात अबतक की सबसे बड़ी आपदा है। जो लोग कह रहे हैं कि क्या ताली-थाली बजाने से कोरोना खत्म हो जाएगा। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि क्या चरखा चलाने से आजादी मिली थी? उन्होंने संजय सिंह को घेरते हुए कहा, “चरखा चलाना एक प्रतीक था। ठीक उसी तरह ताली-थाली बजाना एक प्रतीक था जिसके जरिए कोरोना से जंग में जुटे लोगों का मनोबल बढ़ाने की कोशिश की गई।”

त्रिवेदी ने आगे कहा, “क्या सामाजिक मनोविज्ञान और राजनीतिक मनोविज्ञान हम नहीं समझते? मैं पूरे सम्मान के साथ कह रहा हूं कि क्या लोग इतिहास भूल गए? क्या चरखा चलाने से अंग्रेज भाग जाने वाले थे? चरखा एक प्रतीक था जिसे गांधी जी ने चुना। जैसे गांधी जी ने अंग्रेजों को भगाने के लिए चरखे को एक प्रतीक बनाया था। वैसे पीएम मोदी ने दीए को सामाजिक चेतना का एक प्रतीक बनाया।”

यूपी में घोटाले का मुद्दा उठा, भाजपा बोली- दिल्ली में भी कुछ दिख नहीं रहा: आप नेता ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर कोरोनाकाल के दौरान टेस्टिंग किट के नाम पर घोटाला करने का आरोप लगाया। हालांकि, इस पर पलटवार करते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि दिल्ली सरकार ने लॉकडाउन के दौरान दावा किया था कि दिल्ली में 70 लाख लोगों के लिए खाना बन रहा है। आखिर वो खाना कहां बनता था कि हम लोगों को दिखाई ही नहीं दे रहा था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ये राहुल गांधी एक नंबर का पिट्टठू है, बहस में बोले संबित पात्रा, बिफरे कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा- बस भाजपा के पिट्ठुओं को मौका दे दो
2 दीपक चौरसिया ने योगेन्द्र यादव पर लगाया मुस्लिमों को भड़काने का आरोप तो मिला जवाब- लेख अंग्रेज़ी में था, पर इतना मुश्किल भी नहीं था
3 नरेंद्र मोदी को जन्मदिन पर राहुल गांधी ने दी बधाई, ट्विटर पर राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस ट्रेंड कर रहे विरोधी
कोरोना टीकाकरण
X