ताज़ा खबर
 

राज ठाकरे से बीजेपी की बढ़ रही नजदीकियां, महीनेभर में दो बड़े नेताओं संग हुई मीटिंग, बाला साहेब की 94वें जयंती पर टिकी निगाहें

एमएनएस फिलहाल राजनीति में कुछ खास पहचान नहीं बना पाई है ऐसे में बीजेपी के साथ मिलकर एक एजेंडे पर काम करना उसे भविष्य में फायदा दे सकता है।

BJP, Raj Thackeray, Bala Saheb's 94th birth anniversary, Bala Saheb', Bala Saheb's birth anniversary, bjp, shiv sena, congressपूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात के बाद लगाए जा रहे कयास। फोटो: Indian Express

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) प्रमुख राज ठाकरे की बीजेपी से नजदकियां लगातार बढ़ रही हैं। गुरुवार (23 जनवरी) को शिवसेना के संस्थापक रहे बाला साहेब ठाकरे की 94वीं जयंती पर सबकी निगाहें राज ठाकरे पर टिक गई हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने महीनेभर में बीजेपी के दो बड़े नेताओं संग मीटिंग कर चुके हैं। शिवसेना के कांग्रेस, एनसीपी के साथ गंठबंधन के बाद उसकी हिंदूत्व विचारधारा को नुसकसान पहुंचा है।

राज ठाकरे के बड़े भाई उद्धव ठाकरे ने इसी विचारधारा को आगे बढ़ाया लेकिन अब बाला साहेब के भतीजे राज ठाकरे पर बीजेपी ने निगाहें टिका ली हैं। शिवसेना के एनडीए से अलग होने के बाद बीजेपी हिंदुत्व के अपने एजेंडे और शिवसेना के रिप्लेसमेंट के लिए एमएनएस को बेहतरीन विकल्प मान रही है।

एमएनएस फिलहाल राजनीति में कुछ खास पहचान नहीं बना पाई है ऐसे में बीजेपी के साथ मिलकर एक एजेंडे पर काम करना उसे भविष्य में फायदा दे सकता है। एमएनएस के सामने हिंदूवादी सोच के लोगों को जोड़ने का नया अवसर है। ‘द प्रिंट’ में छपी एक खबर के मुताबिक दो हफ्ते पहले एमएनएस प्रमुख ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आशीष शेलार से मुलाकात की थी।

इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। माना जा रहा है कि गुरुवार को कुछ बड़ी घोषणाएं की जा सकती हैं। बीजेपी से राज ठाकरे की नजदीकियां इसलिए भी अहम मानी जा रही है क्योंकि वह लोकसभा चुनाव 2019 और विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के कड़े आलोचक रहे हैं।

इसकी वजह से पार्टी अपने झंडे को बदलने का निर्णय लिया है। अभी पार्टी के झंडे में केसरिया, नीली और हरी धारियां हैं। पार्टी अपने झंडे को बदलने की सोच रही है जिसमें वर्तमान में केसरिया, नीली और हरी धारियां हैं। पार्टी झंडे को एक रंग केसरिया में करना चाहती है, जिसमें बीच में उभरा हुआ छत्रपति शिवाजी की मुहर रहेगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 क्या सोचा था मैडम, BJP कार्यकर्ता को थप्पड़ मार दोगे और हम भूल जाएंगे; महिला डिप्टी कलेक्टर पर भड़के शिवराज
2 CAA-NRC पर अमित शाह ने दी बहस की चुनौती, मायावती बोलीं- BSP है तैयार
3 पाकिस्तान, यहां तक अमेरिका भी मजहबी देश, लेकिन भारत धर्मनिरपेक्ष; राजनाथ सिंह बोले
कृषि कानून विवाद
X