पश्चिम बंगाल में जारी है ‘हिंसा का खेला’; एक और BJP नेता की गोली मारकर हत्या, आरोप लगा TMC पर

हालांकि भाजपा के आरोपों पर इटाहार तृणमूल कांग्रेस के विधायक मुशर्रफ हुसैन ने कहा कि, इस हत्या का तृणमूल कांग्रेस से कोई लेना-देना नहीं है।

Mithun Ghosh, BJP, west bengal
भाजपा युवा नेता मिथुन घोष की मौत ने उत्तरी दिनाजपुर में राजनीतिक बहस छेड़ दी है(फोटो सोर्स: ट्विटर/@SuvenduWB)।

पश्चिम बंगाल में हिंसा की खबरें रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। इस बीच एक और भाजपा नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। बता दें कि बंगाल भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने सोमवार को दावा किया है कि पार्टी की युवा मोर्चा के 32 वर्षीय नेता मिथुन घोष की उत्तर दिनाजपुर जिले के इटाहार में अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी। सुवेंदु अधिकारी ने इसके लिए तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया।

अपने एक ट्वीट में सुवेंदु अधिकारी ने लिखा कि, “भाजपा युवा मोर्चा के नेता मिथुन घोष की इटाहार में गोली मारकर हत्या कर दी गई है। इस हत्या के पीछे टीएमसी का हाथ है।” उन्होंने आगे लिखा कि खून के प्यासे असामाजिक तत्वों ने अपने मालिक के आदेश पर इस हत्या को अंजाम दिया है। हम मिथुन घोष को नहीं भूलेंगे। सही समय आने पर इसका जवाब दिया जाएगा।”

बता दें कि यह घटना रविवार रात 11 बजे की है। जब घोष राजग्राम गांव में मिथुन घोष अपने घर के सामने खड़े थे, तभी दो मोटरसाइकिलों पर सवार कुछ अज्ञात बदमाशों ने उनके पेट में गोली मार दी। घायल होने के बाद उन्हें तुरंत रायगंज मेडिकल कॉलेज ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

बता दें कि, इस हत्याकांड में सुकुमार घोष और संतोष महतो के नाम सामने आए हैं। मृतक घोष के भाई अजीत घोष ने पुलिस से दावा किया कि, अस्पताल ले जाते समय मिथुन ने उसे ये दोनों नाम बताये थे। इस मामले में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

फोन पर मिली थी धमकी: घोष की मौत ने उत्तरी दिनाजपुर में राजनीतिक बहस छेड़ दी है। भाजपा उत्तर दिनाजपुर जिलाध्यक्ष बासुदेव सरकार ने कहा, ”मिथुन घोष पार्टी के युवा मोर्चा के जिला सचिव थे। उनका घर इटाहार विधानसभा क्षेत्र के राजग्राम में है।” उन्होंने कहा कि, “गोली मारने से पहले उन्हें कई बार फोन पर धमकाया गया था। इसकी शिकायत हमने मौखिक रूप से पुलिस से की थी। लेकिन प्रशासन की तरफ से इसपर कोई कार्रवाई नहीं की गई।”

टीएमसी ने किया आरोपों को खारिज: जहां भाजपा इस हत्या का आरोप टीएमसी पर लगा रही है तो वहीं इटाहार तृणमूल कांग्रेस के विधायक मुशर्रफ हुसैन ने कहा कि, इस हत्या से इटाहार तृणमूल कांग्रेस का कोई लेना-देना नहीं है। बदमाशों ने रात के अंधेरे में फायरिंग की, उनके बीच सांप्रदायिक संघर्ष भी हो सकता है। पुलिस को इस मामले की जांच करने दीजिए। उन्होंने कहा कि, तृणमूल कांग्रेस हत्या की राजनीति में यकीन नहीं रखती है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
आरटीआइ के तहत सूचना मांगने की वजह बताएं: मद्रास हाई कोर्ट1975 LN Mishra Murder Case
अपडेट