सीएम बघेल और चन्नी को साथ लेकर लखीमपुर जाएंगे राहुल गांधी, रोकने के लिए यूपी पुलिस ने कसी कमर

राहुल गांधी ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि, कुछ समय से देश के किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है। किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा है।

Rahul Gandhi , Congress, Lakhimpur Kheri
राहुल गांधी प्रेस कांफ्रेस के दौरान(फोटो सोर्स: ANI)

यूपी के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में पीड़ित परिवारों से मिलने जाने को लेकर राहुल गांधी ने शासन से अनुमित मांगी थी, जोकि उन्हें नहीं मिली है। इसको लेकर लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने कहा कि, “अगर राहुल गांधी लखनऊ आते हैं, तो हम उनसे हवाई अड्डे पर ही लखीमपुर खीरी और सीतापुर न जाने का अनुरोध करेंगे।

लखनऊ के पुलिस कमिश्नर डी.के. ठाकुर ने कहा कि, “राहुल गांधी ने शासन से सीतापुर और लखीमपुर जाने की अनुमति मांगी थी लेकिन हमें जानकारी मिली है कि, अनुमति देने से इनकार कर दिया गया है। दिल्ली हवाई अड्डे के अधिकारियों से भी कहा है कि उन्हें आने न दें।” बता दें कि प्रशासन ने लखनऊ में धारा-144 लगा दी है।

वहीं राहुल गांधी ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि, “कुछ समय से देश के किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है। किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा है। उनकी हत्या की जा रही है। भाजपा के मंत्री के बेटे पर कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है।” उन्होंने कहा कि, आज हम छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के साथ उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जाएंगे और वहां की स्थिति को समझेंगे और किसानों के परिवारों का समर्थन करेंगे।

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा और प्रियंका गांधी को सीतापुर में हिरासत पर रखे जाने को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि भारत में पहले लोकतंत्र हुआ करता था, लेकिन अब तानाशाही है। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि उत्तर प्रदेश में अपराधियों को खुले में घूमने की आजादी है, लेकिन पीड़ितों को जेल में डाल दिया जाता है।

राहुल दो मुख्यमंत्रियों के साथ जाएंगे: राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा कि वह भूपेश बघेल और चन्नी के साथ लखीमपुर खीरी जाएंगे और पीड़ित परिवारों से मिलने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा है। लेकिन भाजपा के मंत्री और उनके पुत्र पर कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है। किसानों पर व्यवस्थागत ढंग से आक्रमण किया जा रहा है।’’

प्रियंका गांधी के साथ कथित धक्का-मुक्की के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। हमें मार दीजिए, हमारे परिवार में हमें ऐसा प्रशिक्षण दिया गया है। लेकिन हम किसानों की बात कर रहे हैं। इस देश के ढांचे पर भाजपा और आरएसएस ने पूरी तरह से कब्जा कर लिया है। सभी संस्थाओं को कंट्रोल में ले लिया गया है।’’

उन्होंने कहा कि, “कल प्रधानमंत्री लखनऊ में थे लेकिन वो लखीमपुर खीरी नहीं जा पाए। इस हिंसा में मरने वालों का ठीक से पोस्टमार्टम नहीं किया जा रहा है। आज हम 2 मुख्यमंत्रियों के साथ लखीमपुर खीरी जाकर उन परिवारों से मिलने की कोशिश करेंगे।” राहुल गांधी ने कहा कि, “लखीमपुर खीरी में धारा 144 लागू है यह केवल 5 लोगों को रोकती है, हम 3 लोग जा रहे हैं। हमने उनको चिट्ठी लिख दिया है। विपक्ष का काम दबाव बनाने का है ताकि कार्रवाई हो।”

वहीं विपक्षी दलों द्वारा लखीमपुर खीरी जाने की कवायद को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि, “लखीमपुर आपको जाना है कुछ दिन बाद चले जाइएगा। आप दुखद परिवारों से मिलें इसमें कोई आपत्ति नहीं है लेकिन माहौल बिगाड़ने के लिए इजाज़त नहीं दी जाती और यह क़ानून के तहत कार्रवाई हो रही है।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट