ताज़ा खबर
 

बीजेपी ने अपने सांसदों को दिया जोरदार झटका- उप चुनावों में परिजनों को टिकट देने से इनकार

बीजेपी इस बार नए कार्यकर्ताओं को टिकट देने के मूड में हैं। बीजेपी इससे अपने कार्यकर्ताओं का भी उत्साह बढ़ाना चाहती है। सूत्रों के मुताबिक सीएम आवास पर भाजपा की कोर ग्रुप की बैठक में ये फैसला लिया गया।

BJP, By Election, MPबीजेपी उपचुनाव की सीटों पर किसी चुने गए सांसद के परिवार को टिकट नहीं देगी।(सांकेतिक तस्वीर)

लोकसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल करने के बाद बीजेपी उत्तर प्रदेश में होने वाले उप चुनाव की तैयरियों में जुट गई। पार्टी के प्रसार के लिए बीजेपी ने रणनीति बनानी शुरू कर दी है। इसी क्रम में बीजेपी ने उप-चुनाव के संबंध में अहम फैसला लिया है। दरअसल,बीजेपी उपचुनाव की सीटों पर किसी चुने गए सांसद के परिवार को टिकट नहीं देगी। उत्तर प्रदेश की 12 सीटों पर उपचुनाव होना है। ऐसे में बीजेपी पूरी तैयारी में है। सूत्रों की मानें तो सांसद बनने के बाद खाली हुई सीटों पर कई नेता अपने परिजनों को उतारना चाहते थे लेकिन बीजेपी ने इन लोगों के इरादों पर पानी फेर दिया है।

बीजेपी इस बार नए कार्यकर्ताओं को टिकट देने के मूड में हैं। बीजेपी इससे अपने कार्यकर्ताओं का भी उत्साह बढ़ाना चाहती है। सूत्रों के मुताबिक सीएम आवास पर भाजपा की कोर ग्रुप की बैठक में ये फैसला लिया गया। दिलचस्प यह है कि 12 विधानसभा सीटों के उपचुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने 11 सीटों पर जहां एक-एक मंत्री को लगाया गया है, वहीं हारी हुई सीट जलालपुर जीतने के लिए दो मंत्रियों की तैनाती की गई है।

गौरतलब है कि चुनावों में प्रत्याशी रहे कई बीजेपी विधायक सांसद चुने गए हैं। इनमें लखनऊ कैंट सीट, बाराबंकी में जैदपुर सीट, चित्रकूट जिले की मनिकपुर सीट, सहारनपुर की गंगोह सीट, अलीगढ़ की इगलास सीट, रामपुर, फिरोजाबाद की टुंडला सीट, कानपुर की गोविंदनगर, बहराइच जिले की बलहा सीट, प्रतापगढ़, अंबेडकरनगर की जलालपुर सीट और हमीरपुर सीट शामिल हैं । ऐसे में इन सीटों के खाली होने पर यहां उप चुनाव होने हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘300 सीटें मिल गईं, और चाहिए क्या?’ मुस्लिमों और दलितों को पीटने पर ओवैसी का RSS पर हमला
2 हाईकोर्ट जज का अनोखा कदम: जारी किया दो साल का रिपोर्ट कार्ड- ‘निपटाए 21,478 मुकदमे, इनमें 2534 अकेले’
3 अखबार का दावा: दारोगा से करियर शुरू करने वाले मराठी दलित नेता सुशील शिंदे हो सकते हैं अगले कांग्रेस अध्यक्ष, गांधी परिवार में चल रहा मंथन
यह पढ़ा क्या?
X