ताज़ा खबर
 

अपने कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग में बता रही बीजेपी- भारत को है चीन से खतरा

बुकलेट के अनुसार, "पड़ोसी देशों से हमें मिल रही बाहरी चुनौती काफी गंभीर है, खासकर चीन से सामरिक तौर पर मिल रही चुनौतियां। वहीं पाकिस्तान लगातार हमारी एकता और अर्थव्यवस्था को निशाना बना रहा है।"

प्रतीकात्मक तस्वीर।

एक तरफ भारत और चीन अपने द्विपक्षीय संबंधों को नई दिशा देने में जुटे हैं, वहीं दूसरी तरफ भाजपा अपने कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग के दौरान बता रही है कि भारत के लिए ‘चीन’ सबसे बड़ा खतरा है। दरअसल भाजपा ने “पंडित दीन दयाल उपाध्याय प्रशिक्षण महाअभियान, 2018” के तहत अपने कार्यकर्ताओं की ट्रेनिंग के उद्देश्य से बुकलेट आदि तैयार किए हैं। इन्हीं बुकलेट्स में बताया गया है कि “चीन और पाकिस्तान दोनों न्यूक्लियर पावर हैं और दोनों देश भारत को ग्लोबल पॉवर बनने से रोकने के लिए नजदीकी राजनियक संबंध बना रहे हैं।” इसी तरह की कई बातें इन बुकलेट्स में छपी हुईँ हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बीती 13 जून को ये बुकलेट्स रिलीज की थी।

भाजपा ने महिला मोर्चा के लिए महिला मोर्चा प्रशिक्षण प्रारुप और किसान मोर्चा विंग के लिए किसान मोर्चा प्रशिक्षण प्रारुप नामक अलग-अलग बुकलेट्स रिलीज की हैं, लेकिन इन दोनों में भी चीन को लेकर कहीं गईं बातें समान हैं। इन बुकलेट्स के टॉपिक राष्ट्र के समक्ष चुनौतियां नामक चैप्टर में चीन से संबंधी चुनौतियों का उल्लेख किया गया है। बुकलेट के अनुसार, “पड़ोसी देशों से हमें मिल रही बाहरी चुनौती काफी गंभीर है, खासकर चीन से सामरिक तौर पर मिल रही चुनौतियां। वहीं पाकिस्तान लगातार हमारी एकता और अर्थव्यवस्था को निशाना बना रहा है।” बुकलेट में कहा गया है कि “ऐसा लगता है कि चीन भारत के साथ मुद्दे सुलझाने में दिलचस्पी नहीं ले रहा है। हालांकि 1962 के बाद से बॉर्डर पर फायरिंग नहीं हुई है और ना ही दोनों देशों के बीच कोई तनाव है, लेकिन चीन लगातार बॉर्डर पर गोला-बारुद जमा कर रहा है। हाल ही में चीन ने युनाइटेड नेशन में 26/11 के मुंबई हमले के मास्टरमाइंड जकी-उर-रहमान लखवी से संबंधित प्रपोजल पर भी पाकिस्तान का समर्थन किया था।”

बुकलेट में ये भी लिखा है कि चीन अपनी नेवी को मजबूत कर रहा है, जो कि भारत के समुद्री हितों के लिए खतरा है। बॉर्डर पर सड़कों का जाल बिछाकर, पाकिस्तान और श्रीलंका की मदद करके चीन भारत के हिंद महासागर में वर्चस्व को चुनौती देने का प्रयास कर रहा है। हालांकि भारत ने हमेशा चीन के साथ आर्थिक सहयोग के रिश्ते बनाकर रखे हैं, लेकिन यह देश लगातार भारत के आर्थिक हितों को चोट पहुंचाने की कोशिश कर रहा है। इसके अलावा भाजपा की इस ट्रेनिंग बुकलेट में चीन के साइबर वॉर, माओवादियों को मिल रही चीन से सहायता आदि का उल्लेख किया गया है। इसके अलावा इस बुकलेट में पाकिस्तान को भी भारत के लिए खतरा माना गया है। इस बुकलेट में “जबरन धर्मांतरण” को भी देश के लिए गंभीर खतरा बताया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App