BJP प्रवक्ता बोले, मोदी राज में धान-गेहूं की हुई रिकॉर्ड खरीदारी तो BKU के राकेश टिकैत ने पेश किए तथ्य, कहा-किसी और के सामने न कह देना ऐसी बात

22 नवंबर को यूपी की राजधानी लखनऊ में किसानों की महापंचायत में शामिल हुए राकेश टिकैत ने कहा कि यह एमएसपी पर गांरटी कानून बनाने के लिए अधिकार रैली है। उन्होंने कहा कि, हमारा आंदोलन चलता रहेगा। पूरे देश का किसान तैयार है।

rakesh tripathi , rakesh tikait
भाजपा प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी और किसान नेता राकेश टिकैत(फोटो सोर्स: ट्विटर/PTI)।

केंद्र सरकार द्वारा तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के ऐलान के बाद अब किसान आंदोलन को लेकर बहस छिड़ी हुई है। बता दें कि आंदोलन खत्म करने को लेकर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने MSP गारंटी पर क़ानून और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करने की मांग रखी है। उन्होंने कहा कि आंदोलन के दौरान 750 किसानों की जान गई है, उनके परिवारों का भी ध्यान रखा जाए।

वहीं इस मुद्दे पर भाजपा प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी और किसान नेता राकेश टिकैत के बीच एक टीवी डिबेट में दिलचस्प बहस देखने को मिली। बता दें कि राकेश त्रिपाठी ने अपनी बात रखते हुए कहा कि राकेश टिकैत जी इस बात को अच्छी तरीके से जानते हैं कि हमने गेंहू-धान की रिकॉर्ड खरीदारी की है। इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ। इसपर टिकैत ने जवाब दिया कि, आपको एक ही जिले का डाटा दिया गया है, किसी और के सामने ना कह देना।

दरअसल भाजपा प्रवक्ता ने कहा, “राकेश जी इस बात को बेहतर तरीके से जानते हैं कि 433 लाख टन की गेंहू खरीद हुई है, जोकि इससे पहले कभी नहीं हुई है। इससे पहले एमएसपी पर धान की खरीद भी पहले कभी नहीं हुई है। हमने रिकॉर्ड खरीदारी करने का काम किया है।” इसपर एंकर ने सवाल किया कि टिकैत जी क्या ऐसा हुआ है?

जिसपर टिकैत ने जवाब देते हुए कहा, “मैं यह पूछना चाहता हूं, जो मंसूरी धान बिहार और उसकी सीमा पर पैदा होता है। उसी धान की रामपुर में खरीद होती है।” उन्होंने भाजपा प्रवक्ता से कहा, “आपको एक ही जिले का आंकड़ा दिया गया है, ध्यान से सुन लेना, किसी और के सामने ना कह देना कि सरकार ने खरीद की है।”

उन्होंने कहा, “यह खरीद सरकार ने नहीं, व्यापारियों ने की है। व्यापारियों ने ही उस धान को एमएसपी पर बेचा है। आपके ही लोग 20-30 हजार क्विंटल धान को सस्ते में खरीदकर और एमएसपी पर बेचते हैं, क्या आप यही व्यवस्था चाहते हो?” उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि यही वजह है कि आप एमएसपी नहीं लाना चाहते, क्योंकि इसमें आपके ही लोग लगे हुए हैं।”

बता दें कि राकेश टिकैत 22 नवंबर को लखनऊ के इकोगार्डन में किसान महापंचायत में भाग लेने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने लखीमपुर हिंसा मामले को लेकर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी की मांग की। महापंचायत को लेकर उन्होंने कहा कि यह एमएसपी पर गांरटी कानून बनाने के लिए अधिकार रैली है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
रावण ने अपने आखिरी पलों में लक्ष्मण को दिया था यह ज्ञान, आपकी सक्सेस के लिए भी जरूरी हैं ये बातेंravan, ram, laxman, ramayan, valuable things, srilanka, धर्म ग्रंथ रामायण, राम, रावण, लंकापति रावण, वध श्रीराम, शिवजी की पूजा, लक्ष्मण
अपडेट