ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी बोले- आरक्षण के खिलाफ हैं BJP-RSS, मोदी नहीं चाहते हैं SC/ST समाज बढ़े आगे

राहुल गांधी ने कहा, 'मैं एससी, एसटी, ओबीसी और दलितों को बता देना चाहता हूं कि पीएम मोदी और संघ प्रमुख मोहन भागत जितना भी सपना देख लें, हम आरक्षण कभी खत्म नहीं होने देंगे।'

कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी। (ANI)

कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने भाजपा और आएसएस पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता ने सोमवार (10 फरवरी, 2020) को कहा कि दोनों का डीएनए आरक्षण के खिलाफ है। ये कभी नहीं चाहेंगे कि एससी/एसटी समाज आगे बढ़े। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक गांधी ने कहा कि वो संस्थागत ढांचे को तोड़ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं एससी, एसटी, ओबीसी और दलितों को बता देना चाहता हूं कि पीएम मोदी और संघ प्रमुख मोहन भागत जितना भी सपना देख लें, हम आरक्षण कभी खत्म नहीं होने देंगे।’

दरअसल पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नियुक्तियों और पदोन्नति में आरक्षण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि आरक्षण को खत्म करने की मंशा रखना भाजपा एवं आरएसएस के डीएनए में है। गांधी ने यह भी कहा कि भाजपा और आरएसस कितना भी प्रयास कर ले, लेकिन कांग्रेस एससी, एसटी और ओबीसी के आरक्षण को खत्म नहीं होने देगी।

उन्होंने संसद परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया, ‘ये (सरकार) आरक्षण के खिलाफ है। ये किसी न किसी तरह से आरक्षण को संविधान से निकालना चाहते हैं। इनकी तरफ ऐसे प्रयास होते रहते हैं। ये चाहते हैं कि एससी-एसटी समुदाय आगे नहीं बढ़ें।’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘अब फैसला आया कि आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं है। यह सब उत्तराखंड की सरकार ने शीर्ष न्यायालय में कहा है। यह आरक्षण को निरस्त करने का भाजपा का तरीका है।’

उन्होंने कहा, ‘भाजपा और आरएसएस वाले कितना भी प्रयास कर लें, लेकिन हम आरक्षण को हटने नहीं देंगे क्योंकि आरक्षण संविधान का एक तरह से प्रत्यक्ष हिस्सा है।’ गांधी ने सरकार पर आरोप लगाया, ‘संविधान पर हमला हो रहा है। लोगों को बोलने नहीं दिया जाता। ये न्यायपालिका पर दबाव बनाते हैं। संविधान के स्ंतभों को एक-एक करके तोड़ रहे हैं।’

उन्होंने दावा किया, ‘भाजपा और आरएसएस के डीएनए में है कि उनको आरक्षण चुभता है और वे इसे मिटाना चाहते हैं। मैं एससी, एसटी और ओबीसी वर्ग के लोगों से कहना चाहता हूं कि चाहे मोदी जी या मोहन भागवत सपना देखें, हम आरक्षण को मिटने नहीं देंगे।’ गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा है कि पदोन्न्ति में आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं है। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Delhi Election Results 2020: दिल्ली में कौन बनाएगा सरकार? 11 फरवरी को होगा साफ
2 सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी एक्ट के संशोधन की संवैधानिकता को दी मंजूरी, बना रहेगा तुरंत गिरफ्तारी का प्रावधान
3 CAA को लेकर ओवैसी ने पीएम मोदी-शाह पर साधा निशाना, कहा- कागज दिखाने की बात होगी तो सीना दिखाएंगे कि मार दो गोली