ताज़ा खबर
 

हिंदुओं को कश्मीर में बसाने के लिए सक्रिय हुई भाजपा, ये है प्लान

राम माधव ने कहा कि 'उनके (कश्मीरी पंडित) घाटी में वापस लौटने के मूलभूत अधिकारों का सम्मान किया जाना चाहिए। इसके साथ ही हमें उन्हें पूरी सुरक्षा भी देनी होगी।'

Ram Madhavभाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और जम्मू कश्मीर के प्रभारी राम माधव। (REUTERS/Anushree Fadnavis)

केन्द्र की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) लंबे समय से कश्मीरी पंडितों को घाटी में वापस बसाने की योजना पर काम कर रही है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और कश्मीर के प्रभारी राम माधव का कहना है कि उनकी पार्टी कश्मीर से जा चुके कश्मीरी पंडितों को फिर से घाटी में बसाने के लिए दृढ़ संकल्प है। न्यूज एजेंसी रायटर्स के साथ बातचीत में राम माधव ने कहा कि ‘उनके (कश्मीरी पंडित) घाटी में वापस लौटने के मूलभूत अधिकारों का सम्मान किया जाना चाहिए। इसके साथ ही हमें उन्हें पूरी सुरक्षा भी देनी होगी।’

राम माधव ने बताया कि भाजपा की पिछली सरकार ने जम्मू कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को लौटाने की दिशा में प्रस्ताव तैयार किया था। इस प्रस्ताव के तहत कश्मीरी पंडितों के लिए कश्मीर घाटी में सुरक्षित कॉलोनियां बनायी जानी थी। इन कॉलोनियों में कड़ी सुरक्षा का इंतजाम किया जाता और स्कूल, कॉलेज और शॉपिंग कॉम्पलेक्स वगैरह की सुविधा भी दिए जाने का प्रस्ताव था। हालांकि इस प्रस्ताव पर सहमति नहीं बन पायी और कश्मीर की क्षेत्रीय पार्टियों, अलगाववादियों के साथ ही विभिन्न संगठनों ने भी सरकार के इस प्रस्ताव का समर्थन नहीं किया।

इसके बाद भाजपा की कोशिशों को उस वक्त झटका लगा, जब उसका जून, 2018 में पीडीपी के साथ गठबंधन टूट गया और भाजपा राज्य की सत्ता से बाहर हो गई। अब इस साल के अंत में कश्मीर में विधानसभा चुनाव होने हैं। भाजपा को उम्मीद है कि इस बार भी वह सत्ता में आने में सफल रहेगी। केन्द्र में भाजपा की सरकार पहले ही बन चुकी है। ऐसे में भाजपा एक बार फिर कश्मीरी पंडितों को घाटी में बसाने के अपने प्लान को लेकर सक्रिय हो गई है।

बता दें कि साल 1989 में घाटी में चरमपंथ के उभार के साथ ही कश्मीरी पंडितों पर हमले शुरु हो गए थे। जिसके बाद बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडितों ने घाटी छोड़ दी थी। यह तादाद करीब 2 से 3 लाख के करीब बतायी जाती है। अब कश्मीर घाटी में सिर्फ 800 परिवार के करीब ही रहते हैं। कश्मीरी पंडितों को वापस घाटी में बसाना भाजपा का पुराना एजेंडा है। ऐसे में यदि आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा को बहुमत मिलता है तो पार्टी एक बार फिर से इस मुद्दे पर सक्रियता दिखा सकती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 छह महीने में 24,000 बच्चों से यौन उत्पीड़न, यूपी सबसे आगे, CJI बोले- 50% में तो जांच ही नहीं
2 ”तमंचे पर डिस्को” करनेवाले विधायक को बीजेपी ने निकाला, बैट से मारने वाले आकाश विजयवर्गीय पर कार्रवाई नहीं
3 डीजीपी का दावा: श्रीदेवी का हुआ था मर्डर! संभव नहीं एक फीट गहरे पानी में कोई डूब मरे, दोस्त की एक्सपर्टीज का हवाला
ये पढ़ा क्या?
X