scorecardresearch

राष्ट्रपति चुनावः शरद पवार का लड़ने से इनकार, राजनाथ सिंह की ममता बनर्जी से लेकर अखिलेश यादव और मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात

शरद पवार ने कहा,भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के लिए एक उम्मीदवार के रूप में मेरा नाम सुझाने के लिए मैं विपक्षी दलों के नेताओं की सराहना करता हूं लेकिन मैं इस प्रस्ताव को अस्वीकार करता हूं।

President Election| Mamata Banerjee| JP Nadda
राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष की मीटिंग में पहुंचे राजनाथ और जेपी नड्डा Photo Credit – Express Archives

बुधवार को 17 विपक्षी दलों के नेताओं ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एक संयुक्त उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने के लिए मुलाकात की, तो बीजेपी के वरिष्ठ नेता बुधवार को प्रमुख विपक्षी नेताओं एनसीपी के शरद पवार और एनसी के फारूक अब्दुल्ला के पास पहुंचे और तीन में से दो नाम जारी किए गए थे। ये बैठक टीएमसी नेता और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा बुलाई गई थी। इस बैठक में संभावित उम्मीदवारों की सूची में तीसरा नाम पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी का था।

इसके पहले भारतीय जनता पार्टी ने पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को 18 जुलाई को होने वाले चुनाव से पहले राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने के लिए अन्य दलों के साथ विचार-विमर्श करने के लिए अधिकृत किया गया था। बुधवार को राजनाथ सिंह ने शरद पवार, ममता बनर्जी, मल्लिकार्जुन खड़गे (कांग्रेस), अखिलेश यादव (सपा), मायावती (बसपा), शिबू सोरेन(झामुमो) ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (बीजद), आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी से बात की। (वाईएसआर-सीपी), और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, जद (यू) जो सत्तारूढ़ एनडीए गठबंधन का हिस्सा है।

राजनाथ सिंह और जेपी नड्डा ने विपक्षी नेताओं से की बात
बुधवार को खड़गे के साथ राजनाथ सिंह की बातचीत के बारे में पूछे जाने पर, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा, “यह एक औपचारिकता है कि राजनाथ सिंह को बिना कुछ बताए समर्थन मांगने के लिए कहा गया था।” वहीं जेपी नड्डा ने फारूक अब्दुल्ला, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा (एनपीपी), ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन के नेताओं, नागा पीपुल्स फ्रंट और कुछ निर्दलीय उम्मीदवारों से बात की। बीजद, वाईएसआर-सीपी, आप, टीआरएस, शिअद और सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट, जिन्हें भी विपक्ष की बैठक के लिए आमंत्रित किया गया था ये लोग बैठक में नहीं पहुंचे। बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए, बनर्जी ने कहा कि पवार के नाम पर एकमत है, लेकिन वह चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं हैं, जिससे आने वाले दिनों में आगे के विचार-विमर्श के लिए मैदान खुला है।

शरद पवार ने उम्मीदवारी से किया इनकार
हालांकि बाद में शरद पवार ने बाद में ट्वीट किया, “दिल्ली में हुई बैठक में भारत के राष्ट्रपति के चुनाव के लिए एक उम्मीदवार के रूप में मेरा नाम सुझाने के लिए मैं विपक्षी दलों के नेताओं की ईमानदारी से सराहना करता हूं। लेकिन मैं यह बताना चाहूंगा कि मैंने अपनी उम्मीदवारी के प्रस्ताव को विनम्रतापूर्वक अस्वीकार कर दिया है। मैं आम आदमी की भलाई के लिए अपनी सेवा जारी रखते हुए खुश हूं।” वहीं जब एक और उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा, “अभी इस पर कोई टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी।”

आजादी के 75वां साल राष्ट्रपति का चुनाव और विपक्ष एकजुट
लगभग दो घंटे तक चली बैठक में पारित हुए प्रस्ताव में कहा गया,”आगामी राष्ट्रपति चुनाव में जो भारत की आजादी के 75वें वर्ष में हो रहा है, हमने एक आम उम्मीदवार को मैदान में उतारने का फैसला किया है जो वास्तव में देश के संरक्षक के रूप में काम कर सकता है। संविधान और मोदी सरकार को देश के लोकतंत्र और सामाजिक ताने-बाने को और नुकसान पहुंचाने से रोक सके।” ममता बनर्जी ने बुधवार की बैठक को “शुरुआत” करार देते हुए कहा,”विपक्ष एक साथ खड़ा है जब हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्था पर बुलडोजर चल रहा है और हर संस्थान को राजनीतिक रूप से पूरी तरह से ढाल दिया जा रहा है।” टीएमसी सूत्रों ने बताया कि बनर्जी ने अपने भाषण में ईडी की राहुल गांधी से पूछताछ की निंदा करते हुए कहा,”उन्हें अभिषेक बनर्जी की तरह ही परेशान किया जा रहा था जबकि भ्रष्ट बीजेपी नेताओं को पवित्र गायों के रूप में माना जाता है।”

मल्लिकार्जुन खड़गे और सुरजेवाला बैठक में पहुंचे
कांग्रेस जो इस मुद्दे पर विपक्षी दल का नेतृत्व करने के टीएमसी के स्पष्ट प्रयास से असहज थी। कांग्रेस ने राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और उसके राज्यसभा सांसदों जयराम रमेश और रणदीप सुरजेवाला को बैठक के लिए भेजा था। खड़गे ने कहा कि कांग्रेस के ध्यान में फिलहाल अभी कोई ‘खास उम्मीदवार’ नहीं है, लेकिन वह एक उम्मीदवार को तय करने के लिए अन्य पार्टियों के साथ बैठेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस यह सुनिश्चित करने में क्रिएटिव रोल निभाएगी कि पार्टियां अगले कुछ दिनों में आम सहमति के उम्मीदवार तक पहुंच सकें। खड़गे ने कहा, “आइए हम इस मामले को लेकर सक्रिय रहें और इस पर रिएक्टिव ना रहें।”

खड़गे ने बताया कैसा हो देश का राष्ट्रपति
उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति उम्मीदवार ऐसा हो जो भारत के संविधान उसके मूल्यों, सिद्धांतों और प्रावधानों को अक्षरशः बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए, यह गारंटी देने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए कि हमारे लोकतंत्र की सभी संस्थाएं बिना किसी डर या पक्षपात के काम करें, कोई भी व्यक्ति अपने अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हो। हमारे सभी नागरिक और हमारे विविध समाज के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को संरक्षित करते हुए, बिना किसी पूर्वाग्रह, घृणा, कट्टरता और ध्रुवीकरण की ताकतों के खिलाफ साहसपूर्वक बोलने के लिए प्रतिबद्ध हो और कोई सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण को आगे बढ़ाने के लिए एक शक्तिशाली ताकत बनने के लिए प्रतिबद्ध हो।

ये एकजुटता राष्ट्रपति चुनाव के बाद भी बनी रहनी चाहिए
खड़गे ने आगे बताया, “मुझे पता है कि इस बैठक में कई पार्टियां विधानसभा चुनावों में एक-दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करती हैं। लेकिन इसके बावजूद भी ये बैठक हो रही है इसे किसी ने भी नहीं रोका। इसके पीछे की वजह है कि हम में से प्रत्येक ने एक बड़ा राष्ट्रीय दृष्टिकोण लिया है और एक बड़े उद्देश्य के लिए यहां आए हैं। इस भावना को जारी रहने दो। हमें एकजुट और अनुशासित रहना चाहिए और एक दूसरे के खिलाफ पोलिटिकल नंबर्स के पीछे नहीं भागना चाहिए। अब हम जिस एकता का प्रदर्शन कर रहे हैं, उसका असर राष्ट्रपति चुनाव के बाद भी होगा।’

विपक्ष के ये नेता भी बैठक में पहुंचे थे
वाम दलों का प्रतिनिधित्व करने आए सीपीआई के बिनॉय विश्वम, सीपीआई (एम) के एलाराम करीम, आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन और सीपीआई (एमएल) के दीपांकर भट्टाचार्य ने किया था। बैठक में मौजूद अन्य लोगों में पूर्व प्रधानमंत्री और जद (एस) नेता एच डी देवेगौड़ा और उनके बेटे एच डी कुमारसामी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव, रालोद नेता जयंत चौधरी, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, आईयूएमएल के ईटी मोहम्मद बशीर, झामुमो के विजय हंसदक शामिल थे। द्रमुक के टी आर बालू, शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी और एमएलसी सुभाष देसाई और राजद के राज्यसभा सदस्य मनोज झा भी शामिल थे।

राष्ट्रपति चुनाव से पहले एक और बैठक करेगा विपक्ष
वहां मौजूद एक सूत्र के हवाले से बताया गया कि विपक्षी नेता इस मुद्दे पर संभवत: अगले सप्ताह दिल्ली या मुंबई में एक और बैठक करने वाले हैं। अगली बैठक से पहले संभवतः 21 जून को होने वाली बैठक से पहले बीजद, वाईएसआर-सीपी, टीआरएस और आप जैसी पार्टियों से विपक्ष के समर्थन आधार को बढ़ाने का फैसला किया गया है। इस बैठक के लिए शरद पवार समय और स्थान तय करेंगे। नया राष्ट्रपति चुनने के लिए एनडीए के पास पहले से ही निर्वाचक मंडल में 48 प्रतिशत से अधिक वोट शेयर हैं। पवार के चुनाव लड़ने से इनकार करने के साथ, नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी के नाम भी संभावित विकल्प के रूप में सामने आए।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X