ताज़ा खबर
 

भविष्य में फिर से एक होंगे भारत, पाक व बांग्लादेश : राम माधव

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से भाजपा में आए पार्टी महासचिव राम माधव के मुताबिक उनके संगठन का मानना है कि भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश एक दिन फिर एक होंगे..

Author नई दिल्ली | December 27, 2015 8:33 AM
भाजपा महासचिव राम माधव (पीटीआई फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से भाजपा में आए पार्टी महासचिव राम माधव के मुताबिक उनके संगठन का मानना है कि भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश एक दिन फिर एक होंगे। लेकिन युद्ध के माध्यम से नहीं बल्कि सद्भावना के रास्ते से। उनका यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पाकिस्तान के अपने समकक्ष नवाज शरीफ से लाहौर में अचानक की गई मुलाकात के बाद सामने आया है।

राम माधव ने दोहा के एक निजी टीवी चैनल से कहा- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को अब भी विश्वास है कि ये हिस्से, जो 60 साल पहले ऐतिहासिक कारणों से अलग हो गए थे, लोकप्रिय सद्भावना के माध्यम से फिर एक होंगे और अखंड भारत बनेगा। बतौर आरएसएस सदस्य, मैं भी इस दृष्टिकोण को लेकर चलता हूं। हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया- इसका यह मतलब नहीं है कि हम किसी देश के खिलाफ जंग छेड़ेंगे, हम किसी देश को अपने में मिला लेंगे। बिना युद्ध के आपसी सहमति से यह हो सकता है।

यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रिसमस के दिन पाकिस्तान की अचानक यात्रा से पहले संभवत: लंदन में रिकार्ड हुआ और शुक्रवार की रात उसे प्रसारित किया गया। आरएसएस के प्रचारक रह चुके माधव ने कहा कि भारत ऐसा भूखंड है जहां एक खास जीवनशैली, खास संस्कृति या सभ्यता का पालन किया जाता है। उन्होंने कहा- हम उसे हिंदू कहते हैं, क्या आपको उससे कोई परेशानी है? भारत की एक संस्कृति है। हम एक संस्कृति हैं, हम एक हैं, हम एक राष्ट्र हैं। आरएसएस की विचाराधारा भारत की सर्वोच्चता के लिए है और यह संगठन न तो फासीवादी है और न ही आक्रामक। लेखकों और बुद्धिजीवियों द्वारा पुरस्कार वापसी पर उन्होंने कहा कि महज चंद लोग पूरे देश के दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व नहीं करते, बुद्धिजीवियों की एक-एक बहुत बड़ी जमात है जो इसका (पुरस्कार वापसी का) समर्थन नहीं करती। भाजपा नेता ने कहा कि वे सरकार को बदनाम करने और भारत की छवि खराब करने के लिए ऐसा कर रहे हैं। विरोध प्रदर्शन का उनका यह तरीका गलत है।

आरएसएस की ‘अखंड भारत’ दलील को आगे बढ़ाते हुए माधव ने जर्मनी और वियतनाम के उदाहरणों का हवाला दिया और कहा कि अगर वे एक साथ आ सकते हैं तो भारत और पाकिस्तान क्यों नहीं। उन्होंने कहा कि अगर दो जर्मनी एक साथ आ सकते हैं, अगर दो वियतनाम एक साथ आ सकते हैं तो आप ऐसा क्यों सोचते हैं कि भारत और पाकिस्तान एकसाथ नहीं आ सकते… ऐसा हो सकता है। भाजपा नेता ने बाद में एक ट्वीट में कहा, ‘अल जजीरा ने मेरा साक्षात्कार सात दिसंबर को रिकार्ड किया गया था। शुक्रवार को इसका प्रसारण संयोग है। इसे किसी अन्य घटना से जोड़ने का प्रयास करने वाले ध्यान दें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App