ताज़ा खबर
 

पूर्वोत्तर और पश्चिम बंगाल जल उठा, तीन ने जान गंवाई तब अमित शाह ने दिए CAA में बदलाव के संकेत, क्रिसमस बाद सीएम को बुलाया

शाह ने गिरिडीह और बाघमारा विधानसभा क्षेत्र में चुनावी जनसभाओं में कहा कि नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के पारित होने से विपक्षी दल को पेट दर्द होने लगा है।

Author नई दिल्ली | Updated: December 15, 2019 1:27 PM
भाजपा अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह।

नागरिकता संशोधन बिल (CAB) के कानून की शक्ल लेने के बाद उत्तर-पूर्व और देश के कई राज्यों में विरोध-प्रर्दशन जारी है। उत्तर-पूर्वी राज्यों में असम और त्रिपुरा में इस कानून का सबसे ज्यादा विरोध देखने को मिला, जहां तीन लोगों की मौत हो गई। पश्चिम बंगाल में भी सशोधित नागरिकता कानून (CAA) का विरोध हुआ है।

इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार (14 दिसंबर, 2019) को कांग्रेस पर संशोधित नागरिकता एक्ट (CAA) के खिलाफ हिंसा भड़काने का आरोप लगाया। शाह ने गिरिडीह और बाघमारा विधानसभा क्षेत्र में चुनावी जनसभाओं में कहा कि नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के पारित होने से विपक्षी दल को पेट दर्द होने लगा है। उन्होंने कहा, ‘हम नागरिकता संशोधन अधिनियम लेकर आए हैं और कांग्रेस को पेट दर्द होने लगा है। वह उसके खिलाफ हिंसा भड़का रही है।’ शाह ने पूर्वोत्तर के लोगों को आश्वासन दिया कि इस अधिनियम से उनकी संस्कृति, भाषा, सामाजिक पहचान और राजनीतिक अधिकार प्रभावित नहीं होंगे।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘मैं असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि उनकी संस्कृति, सामाजिक पहचान, भाषा, राजनीतिक अधिकारों को नहीं छुआ जाएगा तथा नरेंद्र मोदी सरकार उनकी रक्षा करेगी।’ शाह ने कहा कि मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा और उनकी सरकार के मंत्रियों ने इस मुद्दे पर चर्चा को लेकर शुक्रवार को उनसे मुलाकात की है।

गृहमंत्री ने कहा, ‘उन्होंने कहा कि मेघालय में समस्या है। मैंने उन्हें समझाने का प्रयास किया कि कोई मुद्दा नहीं है। उसके बाद भी उन्होंने मुझसे (कानून में) कुछ बदलाव करने को कहा।’ उन्होंने कहा, ‘मैंने संगमा जी को क्रिसमस के बाद समय मिलने पर मेरे पास आने को कहा। हम मेघालय के वास्ते रचनात्मक तरीके से समाधान ढूंढने के लिए सोच सकते हैं। किसी को डरने की जरूरत नहीं है।’

राहुल गांधी पर प्रहार करते हुए शाह ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष बस शोर मचा रहे हैं और उन्हें भारत के इतिहास की जानकारी नहीं है और उन्होंने अपनी आंखों पर ‘इतालवी चश्मा’ लगा रखा है। उन्होंने कहा, ‘हमारी पार्टी की युवा ईकाई का एक जिलाध्यक्ष भी यह बता सकता है कि झारखंड में पांच साल के भाजपा शासन में क्या-क्या विकास कार्य हुए और राहुल गांधी की कांग्रेस ने 55 साल के अपने शासन दौरान क्या कार्य किए।’

उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी और हेमंत सोरेन कहते हैं कि कश्मीर मुद्दा झारखंड चुनाव में क्यों महत्वपूर्ण है?…. इस राज्य के युवा देश की सीमा को सुरक्षित रख रहे हैं। लेकिन राहुल गांधी इतिहास नहीं जानते, क्योंकि उन्होंने आंखों पर इतालवी चश्मे लगा लिए हैं।’ शाह ने कांग्रेस पर नक्सलवाद को बढ़ावा देने, कश्मीर को आतंकवादियों के हाथों में सौंप देने और अयोध्या मुद्दे को सालों तक लटकाने का भी आरोप लगाया।

शाह ने कहा कि कांग्रेस भाजपा पर मुसलमान विरोधी होने का आरोप लगाती है लेकिन यही राजग सरकार है जो तीन तलाक कानून लाई। उन्होंने कहा कि झारखंड में भाजपा नीत सरकार के दौरान लोगों को बिजली मिली, एलपीजी सिलेंडर मिले और मकान भी मिले। गिरिडीह और बाघमारा में चौथे चरण में 16 दिसंबर को मतदान होना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 48 घंटे के अंदर उद्धव ठाकरे को करना पड़ा मंत्रियों के बीच विभागों में फेरबदल, छगन भुजबल से छीन जयंत पाटिल को दिए ये विभाग
2 सुब्रमण्यम स्वामी का राहुल गांधी पर हमला- छीन लेनी चाहिए नागरिकता, इनके परदादा ने 1962 में सेना को दिया था धोखा
3 DCW चीफ स्वाति मालीवाल की हालत बिगड़ी, बेहोश होने के बाद कराना पड़ा अस्पताल में भर्ती; 13 दिनों से हैं अनशन पर
ये पढ़ा क्या?
X