ताज़ा खबर
 

किसान आंदोलन: नीतीश की पार्टी बोली- किसानों ने वोट दिया है, अख्खड़पन न दिखाए सरकार, अमरिंदर ने किया ऑपरेशन ब्लू स्टार का जिक्र

पिछले हफ्ते ही जदयू की राष्ट्रीय समिति ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर बैठक की थी, इसमें पार्टी ने कृषि कानूनों के मुद्दे पर केंद्र को समर्थन की बात तो कही थी।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: February 3, 2021 11:35 AM
KC Tyagi, Capt Amarinder Singhकिसान आंदोलन के मुद्दे पर जदयू महासचिव केसी त्यागी और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की केंद्र सरकार को सलाह।

कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच गतिरोध खत्म होता नहीं दिख रहा है। इस बीच एनडीए में भाजपा की साथी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने मोदी सरकार को किसानों के प्रति नरम रवैया रखने की सलाह दी है। दूसरी तरफ पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक दिन पहले ही किसान आंदोलन के मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक की। इसमें उन्होंने जल्द से जल्द विवाद सुलझाए जाने की वकालत करते हुए 1984 में हुए ऑपरेशन ब्लू स्टार की याद दिलाई।

क्या कहा जदयू ने?: जदयू प्रवक्ता और महासचिव केसी त्यागी ने इकोनॉमिक टाइम्स से बातचीत में कहा, “जदयू ने संसद के दोनों सदनों में कृषि कानूनों का समर्थन किया है। हालांकि, किसान कानून के पास होने के बाद से कुछ चिंताएं जता रहे हैं और सरकार उनसे बात कर कानूनों को सस्पेंड करने की बात तक कह चुकी है। लेकिन फिर भी किसान आंदोलन में लगे हैं। इसलिए जदयू का मत है कि सरकार को किसानों को बातचीत से जोड़कर नरम रवैया बरकरार रखना चाहिए, न कि अक्खड़पन दिखाना चाहिए।”

त्यागी ने आगे कहा, “उत्तर भारत में तो खासतौर पर किसानों ने भाजपा और एनडीए को वोट दिया है। उनके साथ दोस्त की तरह बर्ताव होना चाहिए, न कि दुश्मन की तरह।” बता दें कि भाजपा के लिए जदयू एनडीए की अहम साथी पार्टी है। 2019 में एनडीए गठबंधन से शिवसेना, शिरोमणि अकाली दल और आरएलपी के जाने के बावजूद जदयू अब तक भाजपा के साथ ही है। बता दें कि पिछले हफ्ते ही जदयू की राष्ट्रीय समिति ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर बैठक की थी। इसमें पार्टी ने कृषि कानूनों के मुद्दे पर केंद्र को समर्थन की बात तो कही थी, पर अब जदयू प्रवक्ता ने साथी दल के लिए अहम बातें कही हैं।

पंजाब सीएम ने पाकिस्तान से जताया खतरा: दूसरी तरफ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसान आंदोलन को लेकर मंगलवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। इस बैठक में उन्‍होंने किसान आंदोलन के जल्‍द समाधान पर दबाव डालते हुए नेताओं को 1984 में हुए ऑपरेशन ब्‍लू स्‍टार की याद दिलाई। सर्वदलीय बैठक के बाद पंजाब सरकार की ओर से एक बयान जारी किया गया। इसमें किसान आंदोलन की समस्‍या को जल्‍द हल करने की जरूरत बताई गई। उन्‍होंने याद दिलाते हुए कहा कि 42 मांगों को लेकर दो महीने की लंबी वार्ता के बाद ऑपरेशन ब्‍लू स्‍टार किया गया था।

अमरिंदर सिंह ने यह भी कहा कि पाकिस्‍तान से खतरे को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। उन्‍होंने कहा, “हम सबको इस समस्‍या का हल चीजें हाथ से बाहर जाने से पहले ही जल्‍द निकालना होगा।” कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने चेताते हुए कहा, “अगर यहां क्रोध उत्‍पन्‍न होता है तो इसका फायदा उठाया जा सकता है।”

Next Stories
1 मस्जिद के लिए कटोरा लेकर घूम रहे हैं- है किसी में हिम्मत ऐसा बोलने की? बीजेपी प्रवक्ता का जवाबी हमला
2 टिकैत से पूछिए, मोदी का फोन आया क्या? कांग्रेस प्रवक्ता बोले- सरकार को 303 सीटों का घमंड
3 राकेश टिकैत का सरकार को अल्टिमेटम-अक्टूबर तक नहीं माने तो 40 लाख ट्रैक्टरों की रैली
आज का राशिफल
X