ताज़ा खबर
 

अमित शाह ने बताया किस शक्ति को कोई पराजित नहीं कर सकता

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हमारे पास दुनिया के सबसे ज्यादा लोकप्रिय नेता हैं। हमें पिछले चुनाव से भी ज्यादा सीटें जीतनी हैं। 2 दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के पहले दिन भाजपा अध्यक्ष ने पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित किया।

भाजपा अध्यक्ष ने पार्टी पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित किया। (image source-ANI)

2019 लोकसभा चुनाव की तैयारियों के लिए भाजपा लगातार सक्रियता बनाए हुए हैं। शनिवार को भाजपा ने पार्टी पदाधिकारियों के लिए दिल्ली में एक बैठक का आयोजन किया। इस बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद रहे। इस बैठक में पार्टी संगठन को मजबूत करने पर जोर दिया गया। बैठक में “अजेय बीजेपी” का नारा दिया गया। बैठक को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि अगले लोकसभा चुनावों में हम पूरे बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करेंगे। “संकल्प की शक्ति” को कोई पराजित नहीं कर सकता। अमित शाह ने बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं से आगामी लोकसभा चुनाव और राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्यों के चुनावों में पार्टी को जिताने का आह्वान किया। बता दें कि इस बैठक का आयोजन दिल्ली के अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में किया जा रहा है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हमारे पास दुनिया के सबसे ज्यादा लोकप्रिय नेता हैं। हमें पिछले चुनाव से भी ज्यादा सीटें जीतनी हैं। 2 दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के पहले दिन भाजपा अध्यक्ष ने पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित किया। पार्टी सूत्रों के अनुसार, भाजपा आगामी लोकसभा चुनावों में 2014 से भी बड़ी जीत के प्रति आश्वस्त है। गौरतलब है कि पार्टी चुनावों को देखते हुए कार्यकर्ताओं और नेताओं की ट्रेनिंग काफी फोकस कर रही है। पदाधिकारियों की बैठक से पहले भाजपा ने पार्टी नेताओं के निजी स्टाफ के साथ भी एक भी एक बैठक आयोजित की थी। इसके साथ ही पार्टी ने अपने सांसदों और विधायकों के लिए एक गाइडबुक भी जारी की है, जिसमें उन्हें मीडिया के साथ संबंध बेहतर रखने और सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने के निर्देश दिए गए हैं।

इसके साथ-साथ पार्टी नेताओं को सरकार द्वारा किए गए कामों को जनता के बीच प्रचारित करने के निर्देश भी दिए गए हैं। भाजपा एससी-एसटी एक्ट में बदलाव और पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने का अपनी बड़ी उपलब्धि के तौर पर प्रचारित करना चाहती है, ताकि एससी-एसटी और पिछड़ों को अपने साथ जोड़ा जा सके। हालांकि इसके चलते सवर्णों की नाराजगी भाजपा के लिए चिंता का सबब बन सकती है। रविवार को होने वाली बैठक में पीएम मोदी, अमित शाह, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और कार्यकारिणी के सभी सदस्य मौजूद रह सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App