ताज़ा खबर
 

सांसद, विधायक काम न करे तो जनता को मिले वापस बुलाने का अधिकार, बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने पेश किया बिल

लोकसभा में बीजेपी के सांसद वरुण गांधी के निजी विधेयक पर विचार किया जाएगा जिसमें यह प्रस्ताव किया गया है कि किसी क्षेत्र के 75 प्रतिशत मतदाता अगर अपने सांसद और विधायक के काम से संतुष्ट नहीं हैं तो उन्हें निर्वाचन के दो साल बाद वापस बुलाया जा सकता है।

Author नई दिल्ली। | February 28, 2017 8:04 PM
उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से भाजपा सांसद वरुण गांधी। (Photo Source: Indian Express/Archives)

अगर यह बिल संसद में पास हो गया तो जनता को अपने प्रतिनिधियों के काम से खुश नहीं होने पर निर्वाचन के दो साल बाद बुलाने का अधिकार होगा। लोकसभा में बीजेपी के सांसद वरुण गांधी के निजी विधेयक पर विचार किया जाएगा जिसमें यह प्रस्ताव किया गया है कि किसी क्षेत्र के 75 प्रतिशत मतदाता अगर अपने सांसद और विधायक के काम से संतुष्ट नहीं हैं तो उन्हें निर्वाचन के दो साल बाद वापस बुलाया जा सकता है। वरुण गांधी ने कहा कि तर्क और न्याय की जरुरत के तहत अगर लोगों को अपने प्रतिनिधि चुनने का अधिकार है तो अपने कर्तव्य निभाने में असफल होने वाले प्रतिनिधियों को वापस बुलाने का अधिकार भी जनता के पास होना चाहिए।

दुनिया के विभिन्न देशों में प्रतिनिधियों को वापस बुलाने (Right to Recall) की अवधारणा का प्रयोग किये जाने का जिक्र करते वरुण गांधी ने लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के माध्यम से लोक प्रतिनिधित्व संशोधन बिल 2016 का प्रस्ताव किया है। कानून के अनुसार प्रतिनिधि को वापस बुलाने के लिए क्षेत्र का कोई भी मतदाता कम से कम क्षेत्र के एक-चौथाई वोटरों से हस्ताक्षर कराकर स्पीकर के समक्ष पिटीशन दायर कर सकता है। पिटीशन की प्रमाणिकता की जांच करने के बाद स्पीकर आवेदन को वेरिफिकेशन के लिए चुनाव आयोग को भेजेगा और वोटरों के हस्ताक्षर की सत्यता की जांच की जाएगी। आयोग हस्ताक्षर को वेरिफाई करेगा और विधानसभा क्षेत्र या संसदीय क्षेत्र में 10 जगह वोटिंग की व्यवस्था की जाएगी।

बिल के मुताबिक अगर चुनाव में तीन-चौथाई वोट प्रतिनिधि के खिलाफ जाते हैं और रिकॉल प्रक्रिया के पक्ष में जाते हैं तो सदस्य को वापस बुलाया जा सकेगा। परिणाम प्राप्त होने के 24 घंटे के भीतर स्पीकर इसकी सार्वजनिक अधिसूचना जारी करेंगे और सीट खाली होने के बाद चुनाव आयोग इस सीट पर उपचुनाव करा सकता है। स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव देश के हर नागरिक का अधिकार है और इससे लोगों को अपने प्रतिनिधियों को हटाने का अधिकार प्राप्त हो जाएगा। गांधी ने आगे कहा कि अभी तक जनता के पास ऐसा कोई तरीका नहीं जिससे वह अपने द्वारा चुने गए प्रतिनिधि के काम से असंतुष्ट होने पर उसे वापस बुला सके।

 

वीडियो: वरुण गांधी पर लगा आर्म्स डीलर के हनी ट्रैप में फंसने का आरोप; सफाई में कहा- ‘आरोप हास्यापद, कोई जानकारी लीक नहीं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App