बीजेपी सांसद बोले- हिंदुत्व सकारात्मक सांस्कृतिक अवधारणा, इसमें आपराधिक तत्वों के आने से हिंदुत्व के दुश्मनों को मिल रही मदद

डॉ स्वामी ने अपनी छवि हमेशा एक कट्टर हिन्दुत्ववादी की बनाए रखी है। वे मौजूदा समय में हैं तो भाजपा के सांसद लेकिन भाजपा में उनकी कम लोगों से पट रही है।

subramanian swamyभाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी (एक्सप्रेस फोटो: कमलेश्वर सिंह)

भाजपा सांसद डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि हिन्दुत्व के रथ पर भदेस, घटिया और आपराधिक तत्व सवार हो गए हैं। डॉ स्वामी ने अपने मन की यह बात एक ट्वीट के जरिए कही है। इस ट्वीट के निश्चय ही अनेक निहितार्थ निकाले जाएंगे। लेकिन, अपनी बातों के लिए हमेशा चर्चा में रहने वाले इस भाजपा नेता ने ट्वीट में ऐसा कोई इशारा भी नहीं किया है कि आखिर वे यह गंभीर बयान क्यों दे रहे हैं।

डॉ स्वामी ने ट्वीट में हिन्दुत्व को एक सकारात्मक विचार बताया है। एक ऐसा सकारात्मक विचार जो हमें हमारी स्मृतियों (धार्मिक ग्रंथ) के प्रति  नवजागरण की ओर प्रेरित करता है। दुर्भागयवश हिन्दुत्व के चमकते रथ पर आज भदेस, घटिया और आपराधिक तत्व सवार हो गए हैं जो दूसरे धर्मो को निशाने पर लेते हैं। इससे हिन्दुत्व के दुश्मनों को मदद मिल रही है।

उल्लेखनीय है कि डॉ स्वामी ने अपनी छवि हमेशा एक कट्टर हिन्दुत्ववादी की बनाए रखी है। वे मौजूदा समय में हैं तो भाजपा के सांसद लेकिन भाजपा में उनकी कम लोगों से पट रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भी उनका छत्तीस का आंकड़ा है। वे उनके और सरकार के खिलाफ बोलते भी आए हैं।

फिलहाल, ट्विटर पर दूसरे ट्विटर हैंडिलों की प्रतिक्रियाओं के अलावा कहीं से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। समझा जाता है कि विपक्षी दल शीघ्र ही इस बयान व्याख्या में जुट जाएंगे। ट्विटर पर आई प्रतिक्रियाएं असंपृक्त और अनगढ़ सी हैं। एक आदमी विकीपीडिया का उल्लेख करके बताता है कि उसमें हिन्दुत्व को फासी वादी विचार कहा गया है। उस पर रोक लगनी चाहिए। एक अन्य हैंडिल कहता है कि सामाजिक विचार और राजनैतिक विचार दो अलग अलग चीजें हैं। दोनों को मिलाना ठीक बात नहीं।

Next Stories
1 तमिलनाडुः दो दशकों बाद असेंबली में बीजेपी की एंट्री, सूबे में जीते बीजेपी के 4 विधायक
2 7th Pay Commission: तो इस राज्य के कर्मचारियों को वेतन बढ़ोतरी के लिए करना होगा इंतजार? जानें- क्या नई सरकार करेगी विचार
3 कोरोनाः दिल्ली HC ने कहा- अगर खबरें सही तो नहीं लगा सकते मीडिया पर पाबंदी, उधर, चुनाव आयोग को SC से मिला दो टूक जवाब
यह पढ़ा क्या?
X