ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद ने अंग्रेजी चैनल को ललकारा- ‘मुझसे लड़ना चाहते हो, आओ मैं तैयार हूं’

सुब्रमण्यन स्वामी ने अयोध्या में राम मंदिर के मुद्दे पर बीते दिनों एक रिट याचिका दाखिल की थी। इस याचिका में स्वामी ने अयोध्या में विवादित राम मंदिर स्थल पर पूजा करने के अपने मौलिक अधिकार को लागू कराने की मांग की है।

Author नई दिल्ली | Published on: October 13, 2019 6:38 PM
भाजपा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी। (फाइल फोटो)

भाजपा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने ट्वीट कर एक अंग्रेजी चैनल पर निशाना साधा है और चैनल पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं स्वामी ने चैनल को ललकारते हुए ‘लड़ाई के लिए तैयार’ रहने की बात भी कही है। बता दें कि सुब्रमण्यन स्वामी ने अयोध्या में राम मंदिर के मुद्दे पर बीते दिनों एक रिट याचिका दाखिल की थी। इस याचिका में स्वामी ने अयोध्या में विवादित राम मंदिर स्थल पर पूजा करने के अपने मौलिक अधिकार को लागू कराने की मांग की है। अब बीते दिनों सुब्रमण्यन स्वामी अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ पर एक कार्यक्रम में शामिल हुए। इस कार्यक्रम के दौरान न्यूज एंकर ने सुब्रमण्यन स्वामी से कहा कि ‘सुप्रीम कोर्ट ने आपकी याचिका खारिज कर दी है।

अब भाजपा सांसद ने ट्वीट कर उक्त अंग्रेजी चैनल पर निशाना साधा है। स्वामी ने ट्वीट कर लिखा कि “टाइम्स नाउ के एक शो में एंकर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मुद्दे पर मेरी याचिका यह कहकर खारिज कर दी है कि मेरा कोई मौलिक अधिकार नहीं है! क्या कोई चैनल इतना अनभिज्ञ हो सकता है या फिर किसी को खुश करने के लिए ये मेरे बारे में झूठ बोलने की कोई बीमारी है?”

सुब्रमण्यन स्वामी यहीं नहीं रुके और अगले ट्वीट में लिखा कि “दो हफ्ते पहले मैंने बेनेट कोलमैन के निदेशकों की धांधली और अवैध कार्यों के संबंध में SEBI के सामने एक आरटीआई फाइल की है। हो सकता है कि टाइम्स नाउ इसलिए झूठ बोल रहा है। यदि वो लड़ना चाहते हैं तो मैं तैयार हूं।”

स्वामी के इन ट्वीट पर कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने स्वामी का समर्थन करते हुए सार्वजनिक माफी की मांग कर डाली। इस पर जवाब देते हुए स्वामी ने अगले ट्वीट में लिखा कि उनकी खाल गैंडे की है। इशकरण द्वारा लीगल नोटिस भेजने के बाद उन्होंने गलत स्टोरी चलाने के लिए तीन बार माफी मांगी है। लेकिन वो अनुवांशिक रुप से झूठे लगते हैं।

बता दें कि सुब्रमण्यन स्वामी की राम मंदिर पर याचिका सुप्रीम कोर्ट में लिस्टेड है और सोमवार को सुप्रीम कोर्ट उस पर सुनवाई कर सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘हे.. सागर, तुम्हें मेरा प्रणाम’, पीएम मोदी ने महाबलीपुरम तट पर रची कविता, किया शेयर
2 ‘मंत्रीजी फिल्मी दुनिया से बाहर निकलिए, हकीकत से मुंह मत चुराइए’, रविशंकर प्रसाद को प्रियंका गांधी की नसीहत
3 आर्थिक मंदी के बीच भारत से आगे निकला बांग्लादेश और नेपाल, वर्ल्ड बैंक ने जताया तेज जीडीपी अनुमान