ताज़ा खबर
 

आप तो BJP MP हैं, मोदी से क्यों नहीं मिलते?- स्वामी से यूजर ने पूछा, जवाब मिला- मेरा 5 साल पुराना फोन कॉल भी PM ने लटकाया

स्वामी के ट्वीट पर एक यूजर ने कहा- आप ही उन्हें ताकतवर बनाने के लिए जिम्मेदार हैं। मैं ऐसे कई लोगों को जानता हूं, जिन्होंने भाजपा को वोट दिया, क्योंकि आप उनकी जिम्मेदारी ले रहे थे।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: May 23, 2021 4:05 PM
भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी और पीएम नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो- एजेंसी)

भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी लगातार केंद्र सरकार से नाराज चल रहे हैं। अब तक स्वामी कोरोनावायरस से लेकर वैक्सीनेशन और चीन से लेकर पीओके के मुद्दे पर कई बार मोदी सरकार को घेर चुके हैं। ऐसे में कई लोग यह सवाल उठा चुके हैं कि स्वामी भाजपा के सांसद होने के बावजूद आखिर क्यों पार्टी से ही इतना नाराज रहते हैं। अब ट्विटर पर स्वामी ने खुद इसके एक कारण की तरफ इशारा किया है।

दरअसल, स्वामी के एक ट्वीट पर एक यूजर ने उनसे पूछा कि आखिर वे पीएम से सांसद के तौर पर क्यों नहीं मिलते? जबकि उनके लिए पीएम एक फोन की दूरी पर ही हैं। इस पर सुब्रमण्यम स्वामी ने रिप्लाई करते हुए बताया- “पांच साल पहले मेरा एक टेलिफोन कॉल जो उनके अपॉइंटमेंट सेक्रेटरी भवसर ने उठाया था, वो आज तक लटका है।

स्वामी ने आगे कहा, “जब मोदी मुख्यमंत्री थे, तब वह भवसर ही थे, जिन्होंने कर्णावती से मुझे फोन कर के अपॉइंटमेंट फिक्स करने की मांग की थी। अमित शाह अप्रैल 2014 में मेरे घर पर आए थे, ताकि मैं मदद मांग रहे मोदी का एक कॉल उठा लूं।”

स्वामी के इस ट्वीट के बाद एक यूजर ने कहा- आप ही उन्हें ताकतवर बनाने के लिए जिम्मेदार हैं। मैं ऐसे कई लोगों को जानता हूं, जिन्होंने भाजपा को वोट दिया, क्योंकि आप उनकी जिम्मेदारी ले रहे थे। इस पर स्वामी ने कहा कि मैं अब भी लोगों से भाजपा को ही वोट देने के लिए कहूंगा, क्योंकि यह अकेली पार्टी है, जिसे कोई परिवार नहीं चला रहा।

मोदी सरकार को सलाह देते रहे हैं स्वामी: बता दें कि देश के वित्त मंत्री रह चुके सुब्रमण्यम स्वामी पहले ही अर्थव्यवस्था से लेकर विदेश मामलों तक अलग-अलग मुद्दों पर ट्वीट कर सरकार को सलाह देते रहे हैं। एक दिन पहले ही उन्होंने कहा था कि हिंदू जागृति के लिए नई दिल्ली का नाम बदलकर इंद्रप्रस्थ करने की जरूरत है। स्वामी ने एक रिसर्चर और संत का हवाला देते हुए कहा था कि जब तक राजधानी का नाम बदलकर इंद्रप्रस्थ नहीं होता, तब तक देश में उथल-पुथल बनी रहेगी।”

Next Stories
1 कोरोना के बीच 15 राज्यों में फैला Black Fungus, 10 में महामारी घोषित; स्टडी में दावा- मर्दों, डायबिटीज वालों को अधिक खतरा
2 बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा के ट्वीट को ट्विटर ने बताया manipulated तो भाजपा से पहले मोदी सरकार हुई ऐक्टिव, लिख दी चिट्ठी
3 शोध, संत का हवाला दे BJP सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा- दिल्ली का नाम इंद्रप्रस्थ करने की जरूरत, जब तक न बदलेंगे तब तक “उलझे” रहेंगे
ये पढ़ा क्या?
X