बीजेपी सांसद ने जारी किया मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड, बताया हर अहम मोर्चे पर फेल

मोदी सरकार द्वारा कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान के बाद भाजपा सांसद ने चीन के मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए कहा था कि क्या मोदी यह भी कबूलेंगे कि चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया है?

Narednra modi, BJP
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(फोटो सोर्स: PTI/फाइल)।

भारतीय जनता पार्टी के राज्य सभा सांसद सुब्रमण्मय स्वामी ने 25 नवंबर बुधवार को एक ट्वीट में मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए उसे हर मोर्चे पर फेल बताया। उन्होंने देश की आंतरिक सुरक्षा, इकोनॉमी, सीमा सुरक्षा, विदेश नीति जैसे मुद्दों पर केंद्र सरकार को फेल बताया है। साथ ही उन्होंने तंज कसते हुए लिखा है कि इन सबके लिए सुब्रमण्यम स्वामी जिम्मेदार है।

गौरतलब है कि भाजपा सांसद अक्सर मोदी सरकार की नीतियों को लेकर अपने ट्वीट में सवाल करते रहते हैं। ऐसे में मोदी सरकार के समर्थक उन्हें अपने निशाने पर लिए रहते हैं। इस बीच उन्होंने गुरुवार की सुबह एक ट्वीट में लिखा, “मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड- अर्थव्यवस्था में फेल, सीमा सुरक्षा में फेल, विदेश नीति में अफगानिस्तान में विफलता मिली, राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर पेगासस का मामला, आंतरिक सुरक्षा में कश्मीर में छाई निराशा, इन सबके लिए कौन उत्तरदायी? – सुब्रमण्यम स्वामी”

सोर्स: @Swamy39

बता दें कि कई मुद्दों पर अपनी ही सरकार को घेरने वाले सुब्रमण्यम स्वामी की पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से 24 नवंबर को हुई मुलाकात भी काफी चर्चा में हैं। इसको लेकर सियासी गलियारे में कयासों का दौर शुरू हो चुका है। दिल्ली दौरे पर आईं ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद भाजपा सांसद से जब टीएमसी में शामिल होने को लेकर सवाल हुआ तो उन्होंने कहा कि वे तो हर समय साथ ही हैं।

बता दें कि स्वामी ने इस सवाल का स्पष्ट जवाब नहीं दिया। हालांकि इस मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। ऐसा इसलिए भी कि क्योंकि मोदी सरकार को अक्सर घेरने वाले स्वामी को लेकर पार्टी के कई नेता भी खुश नहीं देखे जा रहे हैं। साफ है कि स्वामी की आलोचना से केंद्र सरकार पर निशाना साधने के लिए विपक्ष को मौका मिलता रहता है।

वहीं मुलाकात के बाद ममता बनर्जी की तारीफ में भाजपा सांसद ने ट्वीट कर कहा, ”मैं जितने राजनेताओं से मिला या उनके साथ काम किया, उनमें ममता बनर्जी जेपी, मोरारजी देसाई, राजीव गांधी, चंद्रशेखर और पीवी नरसिम्हा राव की तरह हैं। इन लोगों की कथनी और करनी में फर्क नहीं था। भारतीय राजनीति में ये एक दुर्लभ गुण है।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट