ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद बोले- चुनावी वादे पूरे नहीं कर पाए तो भी 2019 में हमें ही चाहिए सत्‍ता

2014 के चुनावों के दौरान भी सुब्रमण्यम स्वामी ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी के पक्ष में जमकर प्रचार किया था। उस वक्त स्वामी जनता पार्टी के अध्यक्ष थे लेकिन जब केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनी तब वो जनता पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए।

बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्‍यन स्‍वामी

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि अगर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार अपने चुनावी वादे पूरा नहीं करती है तब भी हमें ही चुनाव में जीत मिलनी चाहिए क्योंकि कांग्रेसियों से देश की सुरक्षा खतरे में है। सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट किया है, “कई कांग्रेसी नेता इस्लामिक आतंकी संगठन आईएसआईएस द्वारा हनीट्रैप के जाल में फंसे हुए हैं। वो फ्री सेक्स के दलदल में धंसे हुए हैं। इस वजह से राष्ट्रीय सुरक्षा खतरे में है। लिहाजा, जरूरत है कि कुछ चुनावी वादे पूरा नहीं होने की सूरत में भी फिर से 2019 में बीजेपी की नरेंद्र मोदी सरकार की ही वापसी होनी चाहिए।” बता दें कि स्वामी लंबे समय से कांग्रेस खासकर गांधी परिवार के प्रबल विरोधी रहे हैं।

2014 के चुनावों के दौरान भी सुब्रमण्यम स्वामी ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी के पक्ष में जमकर प्रचार किया था। उस वक्त स्वामी जनता पार्टी के अध्यक्ष थे लेकिन जब केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनी तब वो जनता पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए। बाद में पार्टी ने उन्हें राज्यसभा का सांसद बनाया। हालांकि, स्वामी आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार की आलोचना करते रहे हैं और खासकर वित्त मंत्री अरुण जेटली के फैसलों को जनविरोधी करार देते रहे हैं। स्वामी विराट हिन्दुस्तान संगम नाम से एक संस्था चलाते हैं, जो इन दिनों हिन्दूवादी एजेंडे पर मोदी सरकार और बीजेपी के लिए साल 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए हवा बनाने की मुहिम में जुटा है।

बता दें कि एक दिन पहले ही स्वामी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल को नक्सली कहा था और उनसे मिलने की कोशिश करने वाले चारों मुख्यमंत्रियों (ममता बनर्जी, पी विजयन, एचडी कुमारस्वामी और एन चंद्रबाबू नायडू) से पूछा था कि आप क्यों उनका समर्थन कर रहे हो? स्वामी ने कहा था कि केजरीवाल 420 हैं और वास्तविक दुनिया की राजनीति नहीं समझते हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि 2जी केस के बाद उनका शुरू किया एंटी करप्शन मूवमेंट केजरीवाल ने हथिया लिया था। स्वामी सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर और अयोध्या विवाद से जुड़े केस की पैरवी भी कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App