BJP MP Shatrughan Sinha slams on PM Narendra Modi, ask to change work style and talk to Senior leaders like LK Advani, MM Joshi - पीएम मोदी को शत्रु की नसीहत- कार्यशैली बदलें, सबको एक नजर से देखें, पार्टी में बड़े-बुजुर्गों से करें संवाद - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी को शत्रु की नसीहत- कार्यशैली बदलें, सबको एक नजर से देखें, बड़े-बुजुर्गों से करें संवाद

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह इन दिनों संपर्क फॉर समर्थन अभियान के तहत एनडीए के सहयोगी दलों के नेताओं से लगातार संपर्क कर रहे हैं।

भाजपा सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा। (Photo-PTI/File)

बीजेपी सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा ने फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है और उन्हें अपनी कार्यशैली में बदलाव लाने की नसीहत दी है। शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम मोदी से कहा है कि अगर आप पार्टी में सभी को एक नजर से देखेंगे तो पार्टी में नई ऊर्जा का संचालन होगा। उन्होंने पार्टी के पुराने लोगों से संवाद करने की भी नसीहत दी है। सोशल मीडिया पर पटना साहिब से सांसद शत्रुघ्न ने लिखा है, “प्रधान सेवक! मेरा विनम्र अनुरोध है कि पार्टी की अंतरध्वनि को सुने। सम्भवतः आपसे न कोई बोलता है, न आप किसी की सुनते हैं। अभी भी ज़्यादा क्षति नहीं हुई है लेकिन आप कार्यशैली में बदलाव करें। पार्टी में सबों को एक नज़र से देखें, जिससे पार्टी में नयी ऊर्जा का संचालन हो। जय बिहार जय भारत!” उन्होंने दूसरे ट्वीट में लिखा है, “PM Sir! Some of your political & security advisors are leading you up the garden path and further isolating you from reality of developing political scenario. संवाद, जिसकी आप दुहाई देते हो उसे पुराने लोगों से शुरू करने की ज़रूरत है।”

शत्रुघ्न सिन्हा ने एक दिन पहले ही पीएम मोदी से पार्टी के सीनियर नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी से संवाद कर आशीर्वाद पाने की नसीहत दी थी और कहा था कि सुबह का भूला अगर शाम को घर लौट आए तो उसे भूला नहीं कहते हैं। उन्होंने लिखा था कि इतिहास में इसके ढेरों उदाहरण भरे पड़े हैं। उन्होंने दरभंगा सांसद कीर्ति झा आजाद से भी दरियादिली दिखाने की बात कही थी। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने इशारों ही इशारों में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पर भी तंज कसा था कि पानी सिर से ऊपर गुजर जाने के बाद अब वो एनडीए के घटक दलों से मिन्नतें करने पहुंचे हैं। उन्होंने कहा था कि उससे भी ज्यादा जरूरी यह है कि पार्टी के अंदर उपेक्षित चल रहे बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद पहले लिया जाय।

बता दें कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह इन दिनों संपर्क फॉर समर्थन अभियान के तहत एनडीए के सहयोगी दलों के नेताओं से लगातार संपर्क कर रहे हैं। इसके अलावा इस अभियान में वो समाज के प्रबुद्ध लोगों से भी मिलकर समर्थन मांग रहे हैं और मोदी सरकार के चार साल के कामकाज से उन्हें अवगत करा रहे हैं। अमित शाह ने एनडीए के घटक दलों से तब संपर्क करना शुरू किया जब एक-एक कर एनडीए के बड़े सहयोगी बीजेपी का साथ छोड़ने लगे। शिव सेना के बाद टीडीपी भी एनडीए से अलग हो चुकी है और उप चुनावों में बीजेपी की लगातार हार हो रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App