ताज़ा खबर
 

गोडसे पर संसद में 3 घंटे में 2 बार साध्वी प्रज्ञा को मांगनी पड़ी माफी, लोग बोले- सावरकर की ओवरडोज हुई है, वह आपमें छिपे हैं

भोपाल से बीजेपी सांसद ने कहा कि उन्होंने नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा था। प्रज्ञा की टिप्पणी को सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं किया गया था।

बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर: Indian Express

बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने विवादास्पद टिप्पणी पर शुक्रवार को लोकसभा में 3 घंटे में दो बार माफी मांगनी पड़ी। भोपाल से बीजेपी सांसद ने कहा कि उन्होंने नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा था। उन्होंने कहा, ‘मैंने 27 नवंबर को एसपीजी विधेयक पर चर्चा के दौरान नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा, नाम ही नहीं लिया, फिर भी किसी को ठेस पहुंचती हो तो मैं क्षमा चाहती हूं।’

उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि उनके बयान को ‘तोड़-मरोड़कर पेश किया गया’। हालांकि प्रज्ञा के माफी वाले बयान पर विपक्षी दल संतुष्ट नहीं हुए तथा बिना शर्त माफी की मांग पर अड़े रहे। जिसके बाद प्रज्ञा को बिना शर्त एक बार फिर माफी मांगनी पड़ी।

प्रज्ञा ठाकुर की माफी पर ट्विटर यूजर्स ने उनकी जमकर क्लास लगाई। यूजर्स ने अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दीं। एक यूजर ने कहा कि ‘ साध्वी प्रज्ञा को सावरकर की ओवरडोज हुई है, वह आपमें छिपे हुए हैं।’

एक यूजर कहते हैं ‘इसे कहते हैं अच्छा संघी जल्दी से माफी मांग लेता है।’ एक यूजर ने कहा ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाअल्लाह वालो ने कभी माफी नही मांगी उन से कब माफी मंगवा रहे हो खान मार्किट वालों।’

एक अन्य यूजर ने कहा ‘दिन में दूसरी बार माफी! भाई लोग, सावरकर का ओवरटेक हो गया क्या? या और 2-4 बार एलोपोजी करनी पड़ेगी?’

गौरतलब है कि प्रज्ञा ने बुधवार को लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान उस वक्त विवादित टिप्पणी की थी जब द्रमुक सदस्य ए राजा बोल रहे थे। प्रज्ञा की टिप्पणी को सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं किया गया था। कांग्रेस समेत विपक्षी सदस्यों ने बृहस्पतिवार को भी इस विषय को सदन में उठाया।

Next Stories
1 10 माह से वेतन न मिलने के कारण बीएसएनएल के 12 कर्मियों ने की आत्महत्या
2 महाराष्ट्र में 10 रुपए में खाना और नौकरियों में स्थानीय लोगों को मिलेगी तरजीह, उद्धव सरकार सबसे पहले करेगी ये काम
3 महाराष्ट्र अघाड़ी के खिलाफ SC ने खारिज की याचिका, जज बोले- हमसे न करें उम्मीद, राजनीतिक दल अपने वादे खुद लागू करें
ये पढ़ा क्या?
X