ताज़ा खबर
 

किसान नहीं हैं आंदोलनकारी, भाजपा सांसद बोले- तीन मुख्यमंत्री करते हैं फंडिंग, पैसे के लिए प्रदर्शन

दक्षिण दिल्ली से भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी ने किसान आंदोलन पर चर्चा के दौरान यह नहीं बताया कि वे प्रदर्शनों की फंडिंग कर रहे तीन मुख्यमंत्री कौन हैं।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: February 10, 2021 9:20 AM
Ramesh Bidhuri, Delhiरमेश बिधूड़ी दक्षिण दिल्ली से भाजपा सांसद हैं। (फाइल फोटो)

भाजपा के सांसद रमेश बिधूड़ी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन पर बैठे लोग किसान नहीं हैं और उन्हें तीन मुख्यमंत्रियों की तरफ से फंडिंग दी जा रही है। बिधूड़ी के बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला तीन कृषि कानून कोई धार्मिक लेख नहीं हैं, जिन्हें बदला न जा सके। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर किसान इन कानूनों को रद्द करवाना चाहते हैं तो आप उनसे बात करके इसे मानते क्यों नहीं हैं।

क्या कहा बिधूड़ी ने?: लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत करते हुए बिधूड़ी ने कहा, “वे लोग (आंदोलनकारी) सीपीआई और सीपीएम के नेता हैं।” उन्होंने किसान आंदोलन पर बात करने के दौरान यह नहीं बताया कि वे प्रदर्शनों की फंडिंग कर रहे तीन मुख्यमंत्री कौन हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस मुद्दे पर शकुनी का काम कर रही है और किसानों को भटका रही है। बिधूड़ी के बयान का भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि किसानों को खुले बाजार से फायदा होगा।

फारूक अब्दुल्ला ने दिया जवाब: नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के अध्यक्ष ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर कहा कि यह कोई खुदाई किताब नहीं है, जिसमें बदलाव न किए जा सकें। उन्होंने केंद्र सरकार से धार्मिक आधार पर भेदभाव न करने की अपील करते हुए कहा, “आपको क्या लगता है कि राम सिर्फ आपके हैं? राम पूरी दुनिया के हैं। वे हम सबके हैं। यह उसी तरह है जैसे मुस्लिमों ने कुरान को अपने सीने से लगा रखा है। कुरान भी सभी के लिए है।”

सपा अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी कृषि कानूनों पर बहस के दौरान कहा कि उत्तर प्रदेश में एमएसपी पर फसलों की खरीद नहीं हो रही। अखिलेश ने पीएम मोदी के आंदोलनजीवी वाले बयान पर तंज कसते हुए कहा- “हम उन्हें क्या कहें, जो आजकल चंदा इकट्ठा करते हुए घूम रहे हैं? क्या आप चंदा जीवी नहीं हैं?”

Next Stories
1 राजस्थान भाजपा नेताओं का बयान- ऐसा ही रहा तो बीजेपी की नैया डूबने से कोई नहीं बचा सकता
2 क्या भगत सिंह, महात्मा गांधी थे परजीवी? राकेश टिकैत बोले- आंदोलनकारियों का अपमान, खुली छत वाली लग्जरी कार से पहुंचे थे पानीपत
3 चमोली हादसाः सुरंगें बन गईं मौत का कुआं, 32 शव मिले, अभी 174 लापता, ढूंढने के लिए ड्रोन का हो रहा इस्तेमाल
ये पढ़ा क्या?
X