एमपी में बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने लिया शिवराज सरकार के खिलाफ स्टैंड, मिला कांग्रेस का साथ

कांग्रेस और भाजपा के विरोध के बाद मध्यप्रदेश सरकार को सांड़ों का बधियाकरण करने के आदेश को वापस लेना पड़ा। भले ही सरकार ने राजनीतिक दबाव में इस आदेश को वापस ले लिया हो लेकिन पशु चिकित्सा विशेषज्ञ इसे ठीक नहीं मानते हैं।

सांड़ों का बधियाकरण करने के आदेश को लेकर भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

मध्यप्रदेश से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने अपनी ही पार्टी के नेतृत्व में चल रही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। सांसद प्रज्ञा ठाकुर सांड़ों के बधियाकरण को लेकर मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार के खिलाफ स्टैंड ले लिया। सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को इस मुद्दे पर विपक्षी कांग्रेस का भी साथ मिल गया। कांग्रेस और भाजपा सांसद के विरोध के कारण मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार को सांड़ों का बधियाकरण करने के आदेश को वापस लेना पड़ा।

दरसल पिछले दिनों मध्यप्रदेश सरकार ने 12 करोड़ रुपए खर्च कर लगभग 12 करोड़ सांड़ों का बधियाकरण करने का आदेश निकाला था। मध्यप्रदेश सरकार के इस आदेश के खिलाफ भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही मोर्चा खोला दिया। हालांकि यह पहली बार नहीं है जब मध्यप्रदेश में सांड़ों का बधियाकरण किया जा रहा है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार 1998-99 से लेकर 2021 के बीच करीब 1.33 करोड़ सांड़ों का बधियाकरण किया गया।

कांग्रेस और भाजपा दोनों के शासनकाल में ही बड़ी संख्या में सांड़ों का बधियाकरण किया गया। 2017-18 में पिछली शिवराज सिंह चौहान सरकार के दौरान 10.6 लाख सांड़ों और 2019-20 के दौरान कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में करीब 7.61 लाख सांड़ों का बधियाकरण किया गया। लेकिन अब दोनों ही पार्टियों सांड़ों के बधियाकरण के आदेश के खिलाफ खड़ी हो गई।

भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने मध्यप्रदेश सरकार के आदेश के खिलाफ हमला बोलते हुए कहा कि यह आदेश देशी गाय की किस्मों को विलुप्त करने की एक बड़ी साजिश का हिस्सा थी। हालांकि इस दौरान जब पत्रकार ने उनसे पूछा कि सांड़ों का बधियाकरण पहले से होता आ रहा है तो उन्होंने कहा कि यह तब भी गलत था और अब भी गलत है। वहीं विपक्षी कांग्रेस ने भी भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर के सुर में सुर मिलाते हुए इस आदेश का विरोध किया। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने भी मध्यप्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार इस आदेश के जरिए देशी गायों की नस्लों को ख़त्म करना चाहती हैं।

कांग्रेस और भाजपा के विरोध के बाद मध्यप्रदेश सरकार को इस आदेश को वापस लेना पड़ा। भले ही सरकार ने राजनीतिक दबाव में इस आदेश को वापस ले लिया हो लेकिन पशु चिकित्सा विशेषज्ञ इसे ठीक नहीं मानते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार अनुपयोगी सांड़ों का बधियाकरण करना कोई नहीं बात नहीं है। यह सालों से होता रहा है। ऐसा नहीं करने से कम दूध देने वाली बछिया पैदा होगी। साथ ही दुग्ध उत्पादन और डेयरी फार्मिंग में वृद्धि के लिए इन सांड़ों का बधियाकरण किया जाना आवश्यक है। इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बल मिलता है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
दलित हत्या कांड: पीड़ित पक्ष की सभी मांगें सरकार ने मानी, अंतिम संस्कार के लिए परिवार राजीFaridabad, dalit, dalit killing, faridabad latest news, Rahul Gandhi, Rahul Gandhi latest news,news in hindi, hindi news, sunperh, dalit home on fire, dalit family fire, ballabhgarh, haryana, haryana news, dalit family, india news, Dalit family, dalit family set on fire, Sunped village, Ballabhgarh, फरीदाबाद, दलित परिवार, दलित, दलित हत्या, राहुल गांधी, फरीदाबाद, राजनाथ सिंह, दलित परिवार को जलाया, सुनपेड़ गांव, पुलिसकर्मी सस्‍पेंड
अपडेट