बीजेपी सांसद परेश रावल ने कहा, इंसानों के लिए होता है मानवाधिकार, लोग बोले- आतंकियों और अरुधंति रॉय के लिए नहीं - BJP MP Paresh Rawal says- Human rights are for humans ! - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद परेश रावल ने कहा, इंसानों के लिए होता है मानवाधिकार, लोग बोले- आतंकियों और अरुधंति रॉय के लिए नहीं

सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा था कि वह मानवाधिकारों में विश्वास रखते हैं और वह इसके उल्लंघन के मामलों को रोकने की पूरी कोशिश करेंगे।

भाजपा सांसद एवं अभिनेता परेश रावल। (एक्सप्रेस फोटो)

अभिनेता से नेता बने भाजपा सांसद परेश रावल ने ट्वीट कर कहा है कि मानवाधिकार सिर्फ इंसानों के लिए होता है। बता दें कि रावल का यह ट्वीट सेनाध्यक्ष बिपिन रावत के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने आज (17 जून को) एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि सेना जम्मू-कश्मीर में शांति बहाली की दिशा में और पत्थरबाजों से निबटने के लिए सख्ती से काम कर रही है और इस दौरान सेना मानवाधिकारों की भी रक्षा कर रही है। उन्होंने कहा कि वह मानवाधिकारों में विश्वास रखते हैं और वह इसके उल्लंघन के मामलों को रोकने की पूरी कोशिश करेंगे। आर्मी चीफ ने यह भी कहा था कि जम्मू-कश्मीर में युवकों को सेना के खिलाफ भड़काया जा रहा है।

रावल के इस ट्वीट का लोगों ने भी समर्थन किया है और लिखा है कि नि:संदेह तौर पर ऐसे अधिकार इंसानों के लिए होने चाहिए न कि शैतानों के लिए। रावल के ट्वीट पर एक यूजर ने लिखा है कि मानवाधिकार अरुधंति रॉय के लिए भी नहीं होना चाहिए जबकि दूसरे यूजर ने लिखा है कि आतंकियों के लिए भी मानवाधिकार नहीं होना चाहिए। एक अन्य यूजर ने लिखा है कि पाकिस्तानियों के लिए भी मानवाधिकार नहीं होना चाहिए।

बता दें कि कुछ दिनों पहले चुनाव के दौरान हिंसा से निपटने के लिए मेजर गोगोई ने जम्मू-कश्मीर के एक पत्थरबाज को सेना की जीप के आगे बांधकर घूमाया था। इस घटना के बाद काफी हंगामा मचा था और जीप में बांधने की घटना को मानवाधिकारों का उल्लंघन करार दिया था। हालांकि, इस वाकये के कुछ दिनों बाद ही सेना ने मेजर गोगोई को उनकी साहसिक कदम के लिए सम्मानित किया था। गोगोई को सम्मानित करने पर भी देशभर में हंगामा हुआ था।

मेजर गोगोई द्वारा कश्मीरी युवक फारुख डार को जीप के बोनट पर बांधने की घटना की अरुधंति रॉय ने आलोचना की थी और इसे मानवाधिकार का उल्लंघन बताया था। तब परेश रावल ने ट्वीट कर किया था, ‘पत्थरबाजों की जगह अरुंधति राय को सेना की जीप के सामने बांधा जाना चाहिए।’ हालांकि, विवाद बढ़ने के बाद रावल ने यह ट्वीट डिलीट कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App