ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद मनोज तिवारी बोले- राम मंदिर के लिए लाऊंगा निजी विधेयक

सांसद ने कहा कि वह यह जानकार हैरान हैं कि राम मंदिर निर्माण का कार्य वर्ष 1528 यानी करीब 490 वर्ष से अधिक समय से लंबित है।

Author November 27, 2018 5:50 PM
भाजपा सांसद मनोज तिवारी बोले- जरुरत पड़ी तो वह राम मंदिर निर्माण के लिए लाएंगे निजी विधेयक। (Express Photo)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद मनोज तिवारी ने मंगलवार को कहा कि वह अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए संसद में एक निजी विधेयक (प्राइवेट मेंबर बिल) पेश करेंगे। इससे पहले बचन सिंह की अगुवाई में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के 25 सदस्यों का प्रतिनिधमंडल यहां तिवारी के आवास पर उनसे मिला और राम मंदिर निर्माण के लिए एक ज्ञापन सौंपा। इसके बाद ही तिवारी ने यह बयान दिया है। तिवारी ने यहां मीडिया से बातचीत में कहा कि, “मुझे विहिप प्रतिनिधिमंडल से एक ज्ञापन मिला। मैं उन्हें आश्वस्त करना चाहता हूं कि मैं संसद और अपनी पार्टी में यह मुद्दा उठाऊंगा।”

यह पूछे जाने पर कि क्या वह प्राइवेट मेंबर बिल लाएंगे? उन्होंने कहा, “अगर जरूरत पड़ी तो, मैं राममंदिर निर्माण के लिए प्राइवेट मेंबर बिल लाने वालों में सबसे पहला व्यक्ति होऊंगा।” सांसद ने कहा कि वह यह जानकार हैरान हैं कि राम मंदिर निर्माण का कार्य वर्ष 1528 यानी करीब 490 वर्ष से अधिक समय से लंबित है। वहीं बचन सिंह ने कहा, “राम मंदिर का मामला 1950 से अदालत में लंबित है। अदालत क्योंकि मामले में देरी कर रही है, इसलिए हमने संसद में इस मामले को उठाने के लिए तिवारीजी को ज्ञापन सौंपा है।”

बता दें कि बीते रविवार को ही विश्व हिंदू परिषद ने अयोध्या में एक विशाल धर्मसभा का आयोजन किया था। इस दौरान लाखों की संख्या में हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता अयोध्या पहुंचे थे और राम मंदिर निर्माण का संकल्प दोहराया था। अयोध्या में हुई धर्मसभा में विहिप और विभिन्न संतों ने सरकार से राम मंदिर निर्माण के लिए संसद में अध्यादेश लाने की मांग की है। हिंदू संगठनों का आरोप है कि कोर्ट राम मंदिर मामले पर देरी कर रहा है, इसलिए सरकार के अध्यादेश लाकर मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करना चाहिए। शिवसेना प्रमुख भी इस दौरान दो दिवसीय दौरे पर अयोध्या आए थे और उन्होंने भी सरकार से मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने की मांग की थी।

(भाषा इनपुट)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App