ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी बोले थे- नहीं कर पाऊंगा माफ, फिर भी नाथूराम गोडसे पर बोलीं साध्वी प्रज्ञा, संसद में कहा- देशभक्तों का…

बुधवार को साध्वी ने संसद के निचले सदन लोकसभा में ए.राजा से कहा था, "आप देशभक्तों का नाम न लीजिए।" यह बात उन्होंने गोडसे के संदर्भ में कही थी।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: November 27, 2019 9:16 PM
मध्य प्रदेश के भोपाल से बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा। (फोटोः LSTV/ANI)

मध्य प्रदेश के भोपाल से BJP सांसद साध्वी प्रज्ञा ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को एक बार फिर देशभक्त बताया है। हैरत की बात है कि उन्होंने ऐसा तब कहा है, जब इस चीज पर खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह चुके थे कि वह इस तरह के बयान देने वालों को कभी भी दिल से माफ नहीं कर पाएंगे।

ताजा मामले में बुधवार को साध्वी ने संसद के निचले सदन लोकसभा में DMK नेता ए.राजा से कहा था, “आप देशभक्तों का नाम न लीजिए।” यह बात उन्होंने गोडसे के संदर्भ में कही थी। हुआ यूं कि एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा के बीच सदन में द्रमुक सदस्य ए राजा ने जब चर्चा में भाग लेते हुए नकारात्मक मानसिकता पर गोडसे का उदाहरण दिया तो प्रज्ञा अपनी जगह खड़ी हो गईं। वह बोलीं कि ‘देशभक्तों का उदाहरण मत दीजिए’।

कांग्रेस के कई सदस्यों ने इसी पर आपत्ति जताई। उन्होंने यह आरोप लगाया कि उन्हें (प्रज्ञा) प्रधानमंत्री का संरक्षण मिला हुआ है। इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी प्रज्ञा को बैठने का इशारा करते नजर आए। लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कांग्रेस सदस्यों से बैठने की अपील करते हुए कहा कि सिर्फ ए राजा की बात रिकॉर्ड में जा रही है।

सदन की कार्यवाही के दौरान रिकॉर्ड से साध्वी से इस बयान को हटा दिया गया। सदन के बाहर जब उनसे पत्रकारों ने इस बारे में सवाल किए, तो उन्होंने कहा- पहले उसको पूरा सुनिए, मैं कल जवाब दूंगी। देखें, VIDEO:

उधर, डीएमके नेता ए.राजा ने इस पर कहा है- मैंने जब कहा था कि गोडसे जिसने गांधी जी की हत्या की, साध्वी खड़ी हुईं और कहने लगीं कि वह देशभक्त था। यह निंदनीय है। इसी बीच, संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने पार्टी को बताया है कि उन्होंने नाथूराम गोडसे का समर्थन नहीं किया और वह सिर्फ क्रांतिकारी उधम सिंह के बारे में बात कर रही थीं।

जोशी ने पीटीआई-भाषा को बताया, “प्रज्ञा ठाकुर के अनुसार उन्होंने नाथूराम गोडसे के बारे में या उनके समर्थन में कुछ नहीं कहा, वह जनरल डायर को जान से मारने वाले क्रांतिकारी उधम सिंह के बारे में बात कर रही थीं।”

बता दें कि प्रज्ञा पहले भी गोडसे को ‘देशभक्त’ बता चुकी हैं, जिसको लेकर विवाद खड़ा हो गया था। पीएम मोदी ने तब इस मामले पर कहा था, “गांधी जी पर जो बयान दिया गया, वह भयंकर खराब है। घृणा के लायक है। सभ्य समाज में ऐसी भाषा और सोच नहीं चल सकती है। ऐसा करने वालों को 100 बार सोचना पड़ेगा। उन्होंने माफी मांग ली, पर मैं मन से माफ नहीं कर पाऊंगा।” सुनें, PM का बयानः

मोदी के इस बयान के अलावा पार्टी में साध्वी के खिलाफ कार्रवाई की भी बात कही गई थी, पर उन पर कोई ऐक्शन नहीं लिया गया। उल्टा हाल ही में भोपाल से बीजेपी सांसद को रक्षा मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति में बतौर सदस्य शामिल किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Mahrashtra: ‘100 सुनार की, एक शरद पवार की’, शत्रुघ्न सिन्हा का BJP पर निशाना
2 पीएम रोजगार सृजन कार्यक्रम का हाल भी फिसड्डी, आधे से भी कम हुआ जॉब सृजन!
3 पूर्व PM चंद्रशेखर, नरसिम्हा राव, गुजराल की भी सुरक्षा ले ली गई थी वापस, तब क्यों नहीं बोले थे आपलोग? गृहमंत्री ने हड़काया
ये पढ़ा क्या?
X