ताज़ा खबर
 

सचिन पायलटः राजस्थान में वोटर्स बीजेपी के पक्ष में नहीं हैं

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने निकाय चुनाव परिणाम में पार्टी को मिले मत प्रतिशत पर संतोष जताते हुए कहा है कि मतदाताओेंं ने प्रदेश की सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी सरकार के खिलाफ 64 फीसद मत देकर जता दिया है कि मतदाता भाजपा के पक्ष में नहीं है।

Author August 21, 2015 6:30 AM

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने निकाय चुनाव परिणाम में पार्टी को मिले मत प्रतिशत पर संतोष जताते हुए कहा है कि मतदाताओेंं ने प्रदेश की सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी सरकार के खिलाफ 64 फीसद मत देकर जता दिया है कि मतदाता भाजपा के पक्ष में नहीं है।

पायलट ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के गृहक्षेत्र धौलपुर, झालावाड और हाडौती के बारां मेंंं निकाय में कांगे्रस को बहुमत मिलने से यह स्पष्ट हो गया है कि मतदाताओें ने भाजपा को नकार दिया है। उन्होंने कहा कि सम्पन्न हुए निकाय चुनाव मेंंं विपक्षी उम्मीदवारों को चौसठ प्रतिशत मत मिले है।

पायलट ने आज यहां प्रदेश पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान कांगे्रस और भाजपा को मिले मत में छब्बीस प्रतिशत का अंतर सम्पन्न हुए निेकाय चुनाव में घटकर मात्र एक प्रतिशत रह गया है।

उन्होंने कहा कि मतदाताओं ने निकाय चुनाव में भाजपा के खिलाफ दो तिहाई मत दिये है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के गृह जिले धौलपुर, झालावाड और हाडौती के बारां निकाय में कांगे्रस को बहुमत मिलने से मतदाताओं ने बता दिया है कि मतदाता किसी भी हाल में भ्रष्टाचार, मनमानी स्वीकार नहीं करेंगे।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा ने निकाय चुनाव में सत्ता, प्रशासन का खुलकर दुरूपयोग करने के बावजूद मतदाताओं ने नकार दिया है। अजमेर निकाय चुनाव मेंंं तीन तीन मंत्री, पूरा प्रशासन और पार्टी लगी होने के बावजूद मनमाफिक जीत नहीं मिल सकी। अजमेर निकाय में भाजपा को प्रतिपक्ष से केवल एक सीट अधिक मिली है।

उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं की मेहनत पर संतोष जताते हुए कहा कि कार्यकर्ताओं ने डटकर मुकाबला किया और चुनाव परिणाम से यह संकेत मिलने लगा है कि कार्यकर्ताओं की मेहनत रंग ला रही है और मतदाताओं ने भाजपा को नकारना शुरू कर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories