ताज़ा खबर
 

BJP नेता विजय गोयल ने धर्म-समुदाय के नाम पर हिंसा को बताया गलत, कहा- CAA पर गलत जानकारी फैला रहे देश विरोधी

भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य विजय गोयल ने कहा कि जो लोग सीएए को लेकर गलत जानकारियां फैला रहे हैं वो देश विरोधी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि ये धर्म विशेष और समुदाय के नाम पर सड़कों पर हिंसा फैला रहे हैं।

Author नई दिल्ली | January 8, 2020 12:32 PM
सीएए के खिलाफ प्रोटेस्ट करते प्रदर्शनकारी, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य विजय गोयल ने कहा कि जो लोग संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) पर गलत जानकारियां फैला रहे हैं, वो ‘देश विरोधी’ हैं। मंगलवार (07 जनवरी) को सीएए के समर्थन में सदर बाजार क्षेत्र में बारा तूती चौक से जामा मस्जिद तक निकाले गए जुलूस के दौरान गोयल ने यह बात कही है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय के साथ जुलूस का नेतृत्व किया है। एक तरफ बीजेपी जहां इस कानून के समर्थन में और लोगों में जाकरुकता फैलाने के लिए अपने नेताओं को जनता के पास भेज रही है वहीं इस तरह के बयान भी पार्टी द्वारा भी सामने आ रहे हैं।

CAA पर गलत जानकारी फैलाने वाले देश विरोधी- गोयलः भाजपा के नेता गोयल ने कहा कि जो लोग सीएए को लेकर गलत जानकारियां फैला रहे हैं वो देश विरोधी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि ये धर्म विशेष और समुदाय के नाम पर सड़कों पर हिंसा फैला रहे हैं। इस पर बोलते हुए गोयल ने यह कहा कि दुखद है कि ऐसा केवल दिल्ली तक ही सीमित नहीं है, बल्कि पूरे देश में हो रहा है।

Hindi News Today, 8 January 2020 LIVE Updates: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

CAA के समर्थन में बीजेपी आई सामनेः बीजेपी लोगों में CAA की जागरुकता को फैलाने के लिए पूरी तरह से मैदान में उतर गई है। इसके लिए पार्टी ने पांच जनवरी से जनजागरण अभियान की शुरुआत की है। इसके जरिए बीजेपी अपनी बड़ी नेताओं को सामने लाई है जो घर घर जाकर CAA के बारे में लोगों को जागरुक कराएंगे। घर-घर संपर्क अभियान में गृह मंत्री अमित शाह, मंत्री प्रकाश जावड़ेकर समेत कई अन्य नेता भी भाग लिए है। यही नहीं पीएम मोदी ने भी इसके समर्थन में ट्वीटर पर एक अभियान चलाया है।

देश में CAA का विरोध जारीः एक तरफ बीजेपी जहां CAA के समर्थन में लोगों के घर घर तक जा रही है वहीं दूसरी तरफ पूरे देश में इसका विरोध प्रदर्शन भी चल रहा है। वहीं विपक्ष भी इसका जमकर विरोध कर रही हैं। कांग्रेस समेत लेफ्ट भी इस कानून का विरोध कर रहे है।

Next Stories
1 Delhi Assembly Elections 2020: 20 जनवरी तक आएगा ‘आप’ का चुनावी घोषणापत्र
2 Delhi Assembly Polls 2020: भाजपा के घोषणापत्र में अहम हो सकता है बिजली बिल
3 JNU हिंसा: 23 बार PCR पर कॉल, घंटों का इंतजार, लेकिन कैंपस में नहीं दाखिल हुई दिल्ली पुलिस; होती रही तोड़फोड़
ये पढ़ा क्या?
X