ताज़ा खबर
 

ताईवान पर ‘ड्रैगन’ ने दी थी नसीहत, National Taiwan Day पर चीनी दूतावास के बाहर BJP नेता ने लगवा दिए बधाई वाले पोस्टर

चीन ने अपनी प्रेस रिलीज में भारतीय मीडिया को धमकाने वाले अंदाज में कहा था कि भारतीय मीडिया के दोस्तों को याद रहना चाहिए कि दुनिया में सिर्फ एक ही चीन है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: October 10, 2020 12:00 PM
Tajinder Bagga, Taiwan, Chinaताईवान के नेशनल डे पर चीनी दूतावास के बाहर लगे पोस्टर। (फोटो- Tajinder Bagga/Twitter)

LAC पर चीनी सेना की आक्रामकता को लेकर भारत गुस्सा बढ़ता जा रहा है। आलम यह है कि सेना के साथ नेता भी चीन की किसी भड़काऊ गतिविधि पर जवाब देने की चेतावनी दे चुके हैं। हाल ही में चीनी दूतावास ने एक प्रेस रिलीज जारी की थी, जिसमें भारतीय मीडिया समूहों को चेताने के अंदाज में 10 अक्टूबर को पड़ने वाले ताईवान के नेशनल डे को कवर न करने के लिए कहा गया था। हालांकि, एक लोकतंत्र में चीन की इस धमकी जैसी मांग ने लोगों को और भड़का दिया। आज (शनिवार) सुबह ही दिल्ली में चीनी दूतावास के बाहर दर्जनों ऐसे पोस्टर लगे देखे गए, जिनमें ताइवान को नेशनल डे की बधाई दी गई है। यह पोस्टर भाजपा नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा की ओर से लगाए गए हैं, जिन्होंने इसकी फोटोज ट्विटर पर भी पोस्ट कीं।

बता दें कि पोस्टर जिस जगह पर लगे हैं, वह सेंट्रल दिल्ली में डिप्लोमैटिक एरिया कहलाता है। बताया गया है कि यह पोस्टर दिल्ली के चाणक्यपुरी में भी एक बड़े इलाके में लगे हैं। मजेदार बात यह है कि पोस्टर में ताईवान के नक्शे के साथ तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने नीचे अपना नाम भी दिया है। बता दें कि कुछ समय पहले ही यहां मौजूद शांतिपथ का नाम बदलकर दलाई लामा पथ रखने की मांग उठ चुकी है।

क्या था चीन की प्रेस रिलीज में?: चीन ने अपनी प्रेस रिलीज में भारतीय मीडिया को धमकाने वाले अंदाज में कहा था कि भारतीय मीडिया के दोस्तों को याद रहना चाहिए कि दुनिया में सिर्फ एक ही चीन है। ताईवान चीन के क्षेत्र का एक अभिन्न अंग है। इन तथ्यों को संयुक्त राष्ट्र भी मानता है और यह अंतरराष्ट्रीय समुदाय में मान्यता प्राप्त है।

चीन ने एडवाइजरी में आगे लिखा था, “हम उम्मीद करते हैं कि भारतीय मीडिया ताईवान पर भारत सरकार के रुख पर ही कायम रहेगी और एक चीन के सिद्धांत पर काय रहेंगे। खासकर ताईवान को एक अलग देश या रिपब्लिक ऑफ चाइना कह कर संबोधित नहीं किया जाना चाहिए और चीन के ताईवान क्षेत्र के लीडर को राष्ट्रपति भी नहीं कहा जाना चाहिए। ताकि आम जनता को गलत संदेश न पहुंचे।”

ताइवान ने दिया था चीन को जवाब: चीन की ओर से जारी एडवाइडजरी पर ताइवान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी किया था। इसमें कहा गया था कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, जहां आजाद मीडिया और स्वतंत्रता पसंद करने वाले लोग हैं। लेकिन लगता है कि कम्युनिस्ट चीन उपमहाद्वीप में भी सेंसरशिप लागू करा देना चाहता है। भारत में ताईवान के दोस्तों का सिर्फ एक ही जवाब है- निकल जाओ।

Next Stories
1 Ram Vilas Paswan RIP Highlights: रामविलास पासवान पंचतत्व में विलीन, राजकीय सम्मान के साथ दी गई विदाई
2 सिलिकॉन वैली का स्टार बना तमिलनाडु में टीचर, गांव में स्कूल का स्टार्ट-अप डाल बनाया ये प्लान, जानें प्रेरक कहानी
3 Delhi Riots 2020: भीड़ के लिए फर्जी मैसेज ‘हथियार’ जैसे हुए थे इस्तेमाल- चार्जशीट में सामने आए डिटेल्स
यह पढ़ा क्या?
X