ताज़ा खबर
 

त्रिपुरा: बीजेपी किंगमेकर की सीएम को सलाह- सेप्टिक टैंक साफ करवाकर ही सौपें मंत्रियों को क्‍वार्टर, 2005 में निकला था कंकाल

ट्वीट में उन्होंने राज्य के नए मुख्यमंत्री बिल्‍पब कुमार देव से सेप्टिक टैंक साफ करवाने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि मंत्रियों के क्वार्टर में जाने से पहले वहां के सेप्टिक टैंकों की सफाई करवा दें।

biplab kumar Debत्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव। (फाइल फोटो)

उत्तरी-पूर्वी राज्यों में भाजपा को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सुनील देवधर ने शुक्रवार (9 मार्च, 2018) को एक ट्वीट किया है। ट्वीट में उन्होंने राज्य के नए मुख्यमंत्री बिल्‍पब कुमार देव से सेप्टिक टैंक साफ करवाने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि मंत्रियों के क्वार्टर में जाने से पहले वहां के सेप्टिक टैंकों की सफाई करवा दें। संघ प्रचारक ने ट्वीव में लिखा, ‘मैं त्रिपुरा के नए सीएम से गुजारिश करता हूं कि सभी मंत्रियों के क्वार्टर में जाने से पहले सेप्टिक टैंकों की सफाई करवा दें। आपको याद होगा कि पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार के आवास से चार जनवरी, 2005 को एक महिला का कंकाल मिला था। मगर इस मामले को जानबूझकर दबा दिया गया।’

बता दें कि त्रिपुरा में भाजपा प्रभारी बनाए गए सुनील देवधर ने राज्य में भाजपा की सरकार बनवाने और लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाने के लिए सुअर का मांस तक खा लिया था। तब उन्होंने एक हिंदी चैनल को बताया, ‘राज्य में संगठन खड़ा करने के लिए मैंने खुद पर बहुत काम किया। अपनी फूड हैबिट तक में भी बदलाव करना पड़ा। यहां पोर्क यानि सूअर का मांस भी खाना पड़ा। हमने यह करिश्मा कांग्रेस के उन्हीं हथियारों से किया जिसे कभी खुद कांग्रेस नहीं कर पाई। राज्य का मौजूदा भाजपा संगठन 90 फीसदी कांग्रेस और तृणमूल कार्यकर्ताओं से ही बन पाया है।

गौरतब है कि भाजपा ने त्रिपुरा में 25 साल पुराने सीपीएम के गढ़ को बुरी तरह से ध्वस्त कर दिया। वामपंथी शासन का खात्मा करते हुए भाजपा ने यहां पहली बार सरकार बनाई है। 2013 के त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में भाजपा को महज डेढ़ फीसद वोट मिले थे जबकि इस बार 43 फीसद।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फ्रांस के राष्‍ट्रपति से मिलेंगे राहुल गांधी मगर नहीं उठाएंगे राफेल डील का मुद्दा, जानिए क्‍यों
2 भारत-फ्रांस के बीच 14 समझौते, नरेंद्र मोदी बोले- आसमान से जमीन तक साथ करेंगे काम
3 सोनिया गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी के इस अंदाज पर ली चुटकी, मतलब भी समझा दिया
ये पढ़ा क्या?
X