ताज़ा खबर
 

किसान आंदोलन: BJP नेता बोले- सबने भांग मिला पानी पी लिया, एंकर ने पूछा ‘सड़क पर सब भांग पीकर आए हैं?’ कांग्रेस प्रवक्ता बोले- गलत बात मत करीये

शुक्रवार को दिन भर सड़क पर प्रदर्शन करने के बाद कुछ किसान सिंघु बॉर्डर पर अड़ गए हैं। यह किसान रात के वक्त वहां खाना बनाते नजर आए।

farmer, farmer protestबीजेपी नेता ने एक उदाहरण देकर अपनी बात रखने की कोशिश की।

किसानों के आंदोलन को लेकर राजनीतिक गलियारे में हंगामा मचा हुआ है। इस बीच ‘आज तक’ पर एक डिबेट शो के दौरान कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने सवाल उठाया कि ‘बीजेपी नेता ने अभी तक इस सवाल का जवाब नहीं दिया कि सरकार के पास यह लेखा-जोखा कैसे होगा कि कौन से किसान ने कितनी फसल खरीदी? ये पहले तो कहते थे कि हम पंजाब के किसानों को उकसा रहे हैं…लेकिन अब पश्चिम उत्तर प्रदेश के किसान भी प्रदर्शन में आ रहे हैं…आप अपने पूर्व पार्टनर अकाली दल को तो समझा नहीं पाए…उनको भी हम उकसा रहे हैं क्या? पहले अकाली दल को मना लीजिए उसके बाद बात करते किसानों से…आप ये मत कहियेगा कि अकाली दल को हमने उकसाया है।’

इसपर शो में शामिल हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने उन्हें जवाब दिया। बीजेपी नेता ने एक उदाहरण देते हुए कहा कि ‘हमारे यहां एक कहावत है कि एक रियासत में एक कुआं था। कुएं में भांग पड़ गई तो लोगों ने पी लिया और कहने लगे कि राजा को हटाओ, राजा को हटाओ…तो वजीर से राजा ने पूछा कि हम क्या करें? तो फैसला हुआ कि हम भी उसी कुएं का पानी पी लें..तो राजा साहब ने कैप्टन के कुएं का पानी पी लिया है…इसपर एंकर ने बीच में ही बीजेपी नेता को टोकते हुए कहा कि ‘तो आपको क्या लगता है कि सड़क पर सब भांग पी कर आएं..क्या बोल रहे हैं आप?

इसपर भाजपा नेता कहने लगे कि ‘नहीं-नहीं मैं उनको नहीं कह रहा। मैं कैप्टन अमरिंदर सिंह औऱ अकाली दल की बात कर रहा हूं।’ इसपर कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने कहा कि ‘ऐसा मत कहिये..ये कैसी बात कर रहे हैं आप इस तरह का उदाहरण मत दीजिए। गलत बात कर रहे हैं आप।’ बहरहाल आपको बता दें किसानों का आंदोलन तेज होता जा रहा है।

शुक्रवार को दिन भर सड़क पर प्रदर्शन करने के बाद कुछ किसान सिंघु बॉर्डर पर अड़ गए हैं। यह किसान रात के वक्त वहां खाना बनाते नजर आए। किसानों ने साफ कर दिया है कि शनिवार-रविवार को भी उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। किसान सरकार की कृषि नीति का लगातार विरोध कर रहे हैं औऱ इसे वापस लेने की मांग पर अड़े हैं। किसानों को दिल्ली में प्रदर्शन की भी इजाजत मिल गई है। हालांकि केंद्रीय कृषि मंत्री ने 3 दिसंबर को किसान संगठनों को बातचीत के लिए आमंत्रित किया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एंकर ने पूछा – किसानों को कितना MSP मिलता है? BJP नेता कांग्रेस पर लगाने लगे राजनीति करने का आऱोप
2 किसानों के प्रदर्शन पर राहुल का ट्वीट- ‘ये तो बस शुरुआत है!’ BJP नेता नकवी का तंज – हम कांग्रेस नहीं जो…
3 अर्नब गोस्वामी केस पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी- आत्महत्या के लिए उकसाने का केस नहीं बनता, HC ने जमानत ना देकर गलती की
ये पढ़ा क्या ?
X