ताज़ा खबर
 

खान या न‍िजामी साहब से नहीं, श‍िकायत है तो गुप्‍ता साहब से- आशुतोष की मौजूदगी में बोले संब‍ित पात्रा

दिल्ली निवासी फैजल खान और उसके एक मित्र ने नन्दगांव के नन्द भवन मंदिर परिसर में नमाज पढ़कर उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दीं। इस संबंध में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

BJP, BJP leader, sambit patra, ashutosh, mathura, namaz in templeभाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने परोक्ष रूप से पूर्व राजनेता व पत्रकार आशुतोष पर निशाना साधा। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के मथुरा के मंदिर में दिल्ली निवासी फैजल खान और उसके एक मित्र के नमाज पढ़ने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस बारे में टीवी शो में डिबेट के दौरान भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि मुझे खान साहब से या निजामी साहब से गिला नहीं है।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि मुझे शिकवा है तो गुप्ता साहब से है क्योंकि यह 500 वर्षों से कई ऐसे गुप्ता साहब आए हैं जिनके कारण से किले में सेंध, किले के दरवाजे बाहर से नहीं टूटे हैं। पात्रा ने कहा कि बहुत से गुप्ता साहब ऐसे हुए हैं जिन्होंने किले के दरवाजे को अंदर से खोला है। इस पर पैनलिस्ट में बैठे आशुतोष बहुत जोर से हंस पड़े। आशुतोष ने कहा कि मैं इन्हें पात्रा या पात्रा साहब कह कर नहीं बुलाता हूं, मैं इन्हें संबित कह कर बुलाता हूं।

पूर्व राजनेता रहे आशुतोष ने कहा कि यह मेरे छोटे भाई जैसे हैं। इस पर पात्रा ने भी कहा कि आशुतोष उनके बड़े भाई जैसे हैं। भाजपा नेता ने कहा कि वो मुझे पात्रा साहब कह कर बुला सकते हैं, मुझे अच्छा लगेगा। मालूम हो कि आशुतोष का पूरा नाम आशुतोष गुप्ता है। डिबेट में आशुतोष ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि संबित पात्रा को एक नियम बना लेना चाहिए।

उस नियम के तहत यह स्पष्ट कर देना चाहिए कि किसी भी बिस्मिल्लाह खान को जो है, बांसुरी में भगवान की प्रार्थना नहीं करनी चाहिए। किसी भी रसखान को कृष्ण की भक्ति नहीं करनी चाहिए।उसमें अपना जीवन नहीं गुजारना चाहिए। उनके पद और सवैये नहीं कहना चाहिए। आशुतोष ने कहा कि पात्रा साहब यह नियम अब आपको बना लेना चाहिए।

इसके साथ ही यह स्पष्ट कर देना चाहिए कि आपकी रेखाएं क्या हैं और उनकी रेखाएं क्या हैं। अगर यह स्पष्ट हो जाएगा तो बहुत अच्छी बात है। उन्होंने आगे कहा कि किसी भी मोहम्मद रफी को यह कहने की इजाजत नहीं होनी चाहिए कि मन तरसत हरि दर्शन को। उन्होंने कहा कि जो रसखान ने कहा, जो मोहम्मद रफी ने गाया वो अमर है। जो बिस्मिल्लाह खान ने किया वह अमर है।

आशुतोष ने आगे कहा कि धर्म को आतंकवाद से जोड़ दें और बार-बार यह कहें कि गर्दन काट देंगे। दरअसल आपके मन में खोट है। मालूम हो कि उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में बीते दिनों ब्रज चौरासी कोस की यात्रा कर रहे दिल्ली निवासी फैजल खान और उसके एक मित्र ने नन्दगांव के नन्द भवन मंदिर परिसर में नमाज पढ़कर उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दीं।

इस संबंध में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। मंदिर के एक सेवायत की शिकायत पर स्थानीय पुलिस ने आरोपी फैजल खान, उसके मुस्लिम मित्र तथा दो हिंदू साथियों के खिलाफ धार्मिक आस्था को चोट पहुंचाने, धार्मिक सम्प्रदायों के बीच वैमनस्य पैदा करने, समाज में ऐसा भय पैदा करने जिससे माहौल खराब होने का अंदेशा हो तथा उपासना स्थल को अपवित्र करने जैसे आरोपों में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दोनों तरफ अधजली लाशें, गले में टायर डालकर सिखों को जलाती भीड़- पत्रकार ने याद किया सिख दंगों का मंजर
2 Z+ सिक्योरिटी होल्डर हैं RIL के मुकेश अंबानी और उनकी फैमिली, जानें कब और किसके ‘मार्फत’ मिली थी यह सुविधा
3 गिलगित-बाल्टिस्तान पर पाकिस्तान ने किया अवैध कब्जा, राजनाथ सिंह बोले-PoK समेत ये इलाका भारत का अभिन्न अंग
ये पढ़ा क्या?
X