ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेता ने लालू यादव के खिलाफ दायर किया केस, घर के सामने दो बूढ़ी गाय बांधने और मारपीट का लगाया आरोप

लालू प्रसाद ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा था कि भाजपा के लोग बूढी और दूध नहीं दे पाने वाली गायों की सही मायने में देखभाल करते हैं या नहीं, यह पता लगाने के लिए उनके घरों के बाहर ऐसे मवेशियों को बांधा जाए।
Author May 6, 2017 21:36 pm
आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव।

भाजपा के एक स्थानीय नेता ने अपने घर के सामने दो बूढी गाय बांधने और उनके साथ मारपीट कर 2,000 रूपये छीन लेने का आरोप लगाते हुए राजद प्रमुख लालू प्रसाद और पार्टी के चार अन्य कार्यकर्ताओं के खिलाफ वैशाली जिला की एक अदालत में एक परिवाद पत्र दायर किया है। भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व मंडल अध्यक्ष चंदेश्वर कुमार भारती ने अपने वकील लक्ष्मण कुमार सिन्हा किसलय के मार्फत वैशाली जिला मुख्यालय हाजीपुर स्थित व्यवहार न्यायालय के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में लालू और उनकी पार्टी के चार अन्य कार्यकर्ताओं के खिलाफ एक परिवाद पत्र दायर किया है।

प्रभारी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मोहम्मद एफ बारी ने भारती के इस परिवाद पत्र की सुनवाई की तारीख आगामी 19 मई निर्धारित करते हुए इसे अपर मुख्य न्यायधीश :चतुर्थ: को हस्तानांतरित कर दिया। भारती के वकील किसलय ने आरोप लगाया कि राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद द्वारा नालंदा जिला के राजगीर में किए गये आह्वान पर गत पांच मई को राजद कार्यकर्ता उनके मुवक्किल के घर के सामने दो बूढी गाय बांधने आये तब उन्होंने इसका विरोध किया, जिस पर राजद कार्यकर्ताओं ने उनके साथ मारपीट की और उनसे 2,000 रुपये छीन लिए।

भारती ने यह भी आरोप लगाया है कि राजद कार्यकर्ताओं ने उन्हें इन बूढी गायों को खिलाने, अपने यहां रखने और उनकी सेवा करने के लिए धमकाया। गौरतलब है कि गत चार मई को राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा था कि भाजपा के लोग बूढी और दूध नहीं दे पाने वाली गायों की सही मायने में देखभाल करते हैं या नहीं, यह पता लगाने के लिए उनके घरों के बाहर ऐसे मवेशियों को बांधा जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    R yadav
    May 7, 2017 at 1:09 am
    जब गाय को माँ मानते हो तो फिर उसकी सेवा करो न, कैशा क्यों ?
    (0)(0)
    Reply