ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेता ने कहा- बहुत छोटी है PNB घोटाले की रकम, हम 5-6 गुणा ज्यादा जब्‍त कर चुके हैं

पंजाब नेशनल बैंक से हजारों करोड़ का लोन लेकर हीरा व्यापारी नीरव मोदी के विदेश फरार होने के बाद देश में हंगामा मचा है। वहीं इस भारी-भरकम घोटाले को भाजपा के नेता छोटा बताकर डैमेज कंट्रोल की कोशिश में लगे हैं।

Author नई दिल्ली | February 18, 2018 10:22 am
पीएनबी फ्राड के आरोपी नीरव मोदी( फाइल फोटो)

पंजाब नेशनल बैंक( पीएनबी) से हजारों करोड़ का लोन लेकर हीरा व्यापारी नीरव मोदी के विदेश फरार होने के बाद देश में हंगामा मचा है। वहीं इस भारी-भरकम घोटाले को भाजपा के नेता छोटा बताकर डैमेज कंट्रोल की कोशिश में लगे हैं। कांग्रेस और भाजपा नेताओं के बीच  घोटाले का ठीकरा एक दूसरे की सरकारों पर फोड़ने की होड़ मची है। भाजपा के आईटी सेल हेड अमित मालवीय ने पीएनबी से सिर्फ एक हजार करोड़ के स्कैम की बात कहकर विवाद को जन्म दिया है। उन्होंने न्यूज 24 की डिबेट के दौरान यह बात कही, जिस पर अन्य पैनलिस्ट ने तीखा विरोध जताया। अमित मालवीय ने कहा कि जितने का घोटाला हुआ है, उससे पांच से छह गुना संपत्ति जब्त हो चुकी है। बता दें कि सीबीआई की चार्जशीट में छह हजार करोड़ रुपये की धनराशि का जिक्र है, वहीं बताया जा रहा कि यह रकम 11 हजार करोड़ है।

बीजेपी के आईटी सेल हेड अमित मालवीय का यह बयान तब आया, जब कांग्रेस ने पीएनबी स्कैम को लेकर सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलना शुरू किया। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देश के इस सबसे बड़े बैकिंग घोटाले में चुप्पी तोड़ने की मांग की। पार्टी नेताओं ने प्रधानमंत्री से सामने आकर सभी तथ्य जनता के सामने रखने की मांग की। कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को को बताना चाहिए कैसे देश की बैकिंग व्यवस्था में निगरानी के सारे तंत्र फेल हो गए हैं। लेटर ऑफ अंडरटेकिंग के जरिए बड़े-बड़े घोटाले होते रहे, दूसरी तरफ सीबीआई, ईडी जैसी एजेंसियां सोती रहीं। रहे हैं। कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री को यह भी बताना चाहिए कैसे बैकिंग सेक्टर और वित्त मंत्रालय में घोटाले को पकड़ने का सिस्टम फेल हो गया है। कांग्रेस ने कहा कि पिछले 45 महीने की मोदी सरकार में भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ जीरो एक्शन और जीरो रिजल्ट है। राहुल गांधी की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद कांग्रेस ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार में बैंकिंग सेक्टर में फ्राड करने वाले आसानी से बच निकल रहे हैं। चाहे वल ललित मोदी हों, विजय माल्या हों, नीरव मोदी या फिर मेहुल सहित एक दर्जन अन्य डिफाल्टर।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App