ताज़ा खबर
 

बीजेपी ने शुरू की 2019 के घोषणा पत्र की तैयारी, सीधे पीएम मोदी को भेज सकते हैं अपना सुझाव

महीने तक चलने वाले इस अभियान में पार्टी को उसका 'संकल्प पत्र' (घोषणापत्र) तैयार करने में मदद करने के लिए देशभर से 10 करोड़ लोगों के सुझाव मांगे जाएंगे।

Author Updated: February 3, 2019 5:11 PM
‘भारत के मन की बात, मोदी के साथ’ अभियान की शुरुआत

लोकसभा चुनाव के लिये अपना संकल्प पत्र तैयार करने में जन भागीदारी सुनिश्चित करने के मकसद से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने रविवार को ‘भारत के मन की बात, मोदी के साथ’ अभियान की शुरुआत की। एक महीने तक चलने वाले इस अभियान में पार्टी को उसका ‘संकल्प पत्र’ (घोषणापत्र) तैयार करने में मदद करने के लिए देशभर से 10 करोड़ लोगों के सुझाव मांगे जाएंगे।

शाह ने कहा कि इस अभियान का उद्देश्य घोषणापत्र तैयार करने की प्रक्रिया का लोकतंत्रीकरण करना है और इस ‘अनूठे प्रयोग’ से लोकतंत्र मजबूत होगा। भाजपा अध्यक्ष ने यहां एक कार्यक्रम में पत्रकारों से कहा, लोग किस तरह का देश चाहते हैं और इसे हासिल करने के लिए उनके क्या सुझाव हैं, इस अभियान में उनके विचार जानने के लिए उन तक पहुंचा जाएगा’। उन्होंने बताया कि इससे पार्टी को नए भारत का सपना साकार करने में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि इस कवायद के लिये पार्टी ने एक वेबसाइट भी तैयार की है। इसके अलावा व्हाट्सएप, ई मेल, मिस्डकॉल के जरिये भी विचार प्राप्त किये जायेंगे। शाह ने कहा कि इस उद्देश्य के लिये पार्टी ने देश भर में अलग अलग क्षेत्रों में 300 रथ तैयार किये हैं जिसके माध्यम से सुझाव एकत्र किये जायेंगे।

कार्यक्रम में बताया गया कि संकल्प पत्र के लिये सुझाव प्राप्त करने के उद्देश्य से अलग अलग विधानसभा क्षेत्रों में 7700 मत पेटियां रखी जा रही हैं जिसमें लोग अपना सुझाव दे सकते हैं। इसके साथ ही पार्टी घर घर सम्पर्क को भी आगे बढ़ा रही है जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चित्र युक्त पत्र भी पहुंचाया जायेगा। सुझावों के संकलन के लिये राज्य स्तर पर 20..20 लोगों की टीम बनाई गई है और राष्ट्रीय स्तर पर सुझाव को अंतिम रूप से देने के लिये 30 लोगों की टीम है।

चुनाव संकल्प पत्र तैयार करने वाली समिति की अध्यक्षता गृह मंत्री एवं पार्टी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह कर रहे हैं। संकल्प पत्र को 12 श्रेणियों में बांटा गया है और पार्टी ने इसके लिये अलग अलग संयोजक नियुक्त किये हैं। राजनाथ सिंह ने कहा कि कृषि संबंधी विषय के संयोजक पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ंिसह चौहान को बनाया गया है जबकि युवा मामलों के विषय के संयोजक राजीव चंद्रशेखर होंगे। महिला सशक्तिकरण की संयोजक स्मृति ईरानी, समावेशीकरण, अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग, घुमंतू समुदाय, बंधुआ मजदूर जैसे विषय के संयोजक थावर चंद्र गहलोत होंगे।

उन्होंने सुशासन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, आईटी जैसे विषयों के संयोजक डा. हर्षवर्द्धन तथा अर्थव्यवस्था, उद्योग एवं पर्यटन विषय का संयोजक अरूण जेटली को बनाया गया है। आधारभूत ढांचा, जल संशाधन, पेयजल, ऊर्जा, स्वास्थ्य विषयों का संयोजक हरदीप पुरी तथा शिक्षा एवं कौशल विकास जैसे विषयों का संयोजक प्रकाश जावड़ेकर को बनाया गया है।

राष्ट्रीय सुरक्षा (बाह्य एवं आंतरिक), सेना जैसे विषयों के संयोजक भुवन चंद्र खंडूरी को बनाया गया है और किरण रिजिजू उनकी सहायता करेंगे। विदेश मामलों एवं पड़ोसी देश से जुड़े विषयों का संयोजक विनय सहस्त्रबुद्धे को बनाया गया है जबकि संस्कृति, गंगा, राम मंदिर, विदेशों से धरोहरों को वापस लाने के विषय का संयोजक डॉ महेश शर्मा को बनाया गया है। मजदूर, श्रम से जुड़े विषयों का संयोजक बंडारू दत्तात्रेय को बनाया गया है और इसमें संयज पासवान सहयोग करेंगे ।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘देश चुनाव की और बढ़ रहा है। अगले 5 साल, देश का भविष्य तय करेंगे।’ उन्होंने कहा कि ‘भारत के मन की बात – मोदी के साथ’, कार्यक्रम भाजपा का नहीं है, बल्कि देश के लिए है। ये कार्यक्रम देश को सुरक्षित करने, गरीब का जीवन स्तर ऊंचा उठाने के लिए है। ये कार्यक्रम नया भारत बनाने के लिए है ।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देश में पहली बार कोई राजनीतिक दल अपना संकल्प पत्र बनाने के लिए इतने बड़े स्तर पर जनसंपर्क करने जा रहा है । उन्होंने कहा कि जनता की उम्मीदों को सम्मान देना भाजपा अपना कर्त्तव्य ही नहीं बल्कि नैतिक दायित्व मानती है। शाह ने कहा, ‘इस कवायद के तहत हम आगे और क्या कर सकते हैं इस पर जनता की राय जानी जाएगी।’

Next Stories
1 मुद्रा योजना के तहत कितनी नौकरियां मिलीं? मंत्रालय ने RTI के जवाब में बताया ही नहीं
2 नागरिकता बिल के विरोध में फिल्मकार अरिबम श्याम शर्मा ने लौटाया पद्मश्री, 2006 में मिला था पुरस्कार
3 अचानक धमाका हुआ, झटके से सब गिर पड़े, सीमांचल एक्‍सप्रेस के यात्रियों ने सुनाई आपबीती
ये पढ़ा क्या?
X