ताज़ा खबर
 

अदालत किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है केवल दूसरों को निर्देश देती रहती है: भाजपा सांसद

भाजपा के हरीश मीणा ने आरोप लगाया कि अधिकतर जजों और वकीलों के परिवारों के लोग ही न्यायाधीश बन जाते हैं।
Author नई दिल्ली | May 11, 2016 06:04 am
अधिकतम सजा की मांग करते हुए अभियोजक ने दलील दी कि विदेशी के साथ हुआ अपराध बर्बरतापूर्ण एवं अमानवीय ढंग से किया गया तथा इन दोषियों ने देश की छवि पर धब्बा लगाया है।

लोकसभा में मंगलवार (10 मई) को भाजपा के एक सदस्य ने न्यायपालिका पर आरोप लगाया कि कार्यपालिका और विधायिका की तरह न्यायपालिका किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है और वह केवल दूसरों को निर्देश देती रहती है। भाजपा के हरीश मीणा ने शून्यकाल में इस विषय को उठाते हुए देश में अखिल भारतीय न्यायिक सेवा के गठन की मांग की ताकि न्यायाधीशों का चयन और कामकाज पारदर्शी हो। उन्होंने आरोप लगाया कि अधिकतर जजों और वकीलों के परिवारों के लोग ही न्यायाधीश बन जाते हैं।

इससे पहले भाजपा के ही अर्जुन राम मेघवाल और उदित राज कुछ मुद्दों पर सदन में न्यायपालिका पर इसी तरह के आरोप लगा चुके हैं। उन्होंने विधायिका और कार्यपालिका के अधिकारों पर ‘अतिक्रमण’ के विषय को भी इसमें रखा। मीणा ने कहा, ‘‘विधायिका जनता के प्रति जवाबदेह है। कार्यपालिका सरकार के प्रति जवाबदेह है। लेकिन न्यायपालिका किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है। भारत में यदि लोग सर्वाधिक किसी चीज से प्रताड़ित हैं तो वह न्यायपालिका की कार्यशैली से।’’

उन्होंने कहा, ‘‘करोड़ों मामले लंबित हैं और एक मामले को निपटाने में 20 साल तक लग जाते हैं जिसमें एक साल लगना चाहिए। वे अपना काम ठीक से नहीं करते बल्कि कार्यपालिका को बताते हैं कि वे क्या करें। विधायिका को बताते हैं कि यह करें और यह नहीं करें।’’

मीणा पूर्व आईपीएस अधिकारी हैं जो डीजीपी के तौर पर सेवानिवृत्त हुए। वह राजस्थान के दौसा से सांसद हैं। उनके विचार का कई अन्य सदस्यों ने भी समर्थन किया जिनमें अधिकतर सत्तापक्ष के थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Arvind
    May 12, 2016 at 8:12 am
    अपवाद छोड़ दे तो, सरकारी लोग भी और जज भी काफी काम करते है. लेकिन दोनों जगह रिक्त पद काफी हैं जिससे काम में देरी भी होती है और क्वालिटी भी गिरती है.
    (0)(0)
    Reply
    1. राजेश प्रसाद
      May 12, 2016 at 12:57 am
      जजों के रिक्त पद भरिए, जो आप के हाथ में है। अगर जनता को त्वरित न्याय नहीं मिल पाता तो उसके हजार कारणों में जजों की कमी भी एक है।
      (0)(0)
      Reply