BJP ने नीतीश कुमार को दिया झटका, अरुणाचल प्रदेश में पार्टी के 6 विधायक भाजपा में हुए शामिल

बिहार विधानसभा चुनाव में जनता दल युनाइटेड के प्रदर्शन से निराश नीतीश कुमार अभी उबरे ही नहीं थे कि आज उनकी पार्टी के विधायकों के बीजेपी में शामिल होने की खबर आई है।

JDU, Nitish Kumar, Press Conference
जदयू कार्यालय में मीडिया को संबोधित करते सीएम नीतीश कुमार। (फोटो- PTI)

बिहार विधानसभा चुनाव में जनता दल युनाइटेड के प्रदर्शन से निराश नीतीश कुमार अभी उबरे ही नहीं थे कि आज उनकी पार्टी के विधायकों के बीजेपी में शामिल होने की खबर आई है। नीतीश कुमार के दुख को बढ़ाने के लिए यही वजह काफी है कि उनके विधायक जिस पार्टी में गए हैं , वह कोई और नहीं बिहार में उनकी सत्ता में साझेदार बीजेपी ही है। अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के 6 विधायक भगवा पार्टी में शामिल हो गए हैं।

60 सदस्यों वाली अरुणाचल विधानसभा में अब जेडीयू का सिर्फ एक विधायक रह गया है। बता दें कि पीपल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल का भी एक विधायक बीजेपी में शामिल हुआ है। राज्य विधानसभा में इसके साथ ही बीजेपी के 48 विधायक हो गए हैं। जेडीयू के जो विधायक बीजेपी में शामिल हुए हैं उनमें हेयेंग मंग्फी, जिकके ताको, डोंगरू सियनगजू, तालेम तबोह, कांगगोंग ताकु और दोरजी वांग्दी खर्मा शामिल हैं।

इन विधायकों में से तीन को तो हाल ही में पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए निष्कासित किया गया था। उन्होंने राज्य जेडीयू अध्यक्ष से पूछे बिना विधायक दल का नेता चुन लिया था। भाजपा की अरुणाचल इकाई के प्रमुख बयूरम वाहगे ने कहा कि जेडीयू के विधायकों का बीजेपी में आना बताता है कि लोगों का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री पेमा खांडू के नेतृत्व में विश्वास है।

नीतीश कुमार के करीबी लोग इस बात से बेहद परेशान हैं और इसे भाजपा के विश्वासघात के रूप में देखे रहे हैं। बता दें कि इस हफ्ते जनता दल यूनाइटेड की दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद की बैठक भी होनी है। हैरान करने वाली बात ये है कि जेडीयू और भाजपा अरुणाचल में साझेदार नहीं हैं और राज्य में नीतीश कुमार की पार्टी विपक्ष में है, लेकिन यह पेमा खांडू सरकार का समर्थन करती है।

बता दें कि जेडीयू को पिछले साल अरुणाचल प्रदेश में राज्य पार्टी का दर्जा मिला था। आज के घटनाक्रम के साथ ही राज्य में विपक्ष संख्या अब 12 रह गई है। जिसमें कांग्रेस और नेशनल पीपुल्स पार्टी के चार-चार विधायक हैं और जेडीयू का एक और तीन निर्दलीय विधायक हैं।

हाल ही में हुए बिहार चुनावों के बाद नीतीश कुमार ने जैसे तैसे मुख्यमंत्री की कुर्सी बचाई है। लेकिन ये घटनाक्रम साफ करता है कि एनडीए में नीतीश कुमार का कद क्या है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट