ताज़ा खबर
 

बीजेपी को बड़ा झटका: पांच सदस्यों ने दिया इस्तीफा, गई दीव जिला पंचायत की सत्ता

इस महीने के शुरुआत में दीव में नगर निगम के चुनाव हुए थे जिसमें कांग्रेस ने 13 सीटों में से 10 सीटों पर अपना कब्जा जमाया।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

दमन और दीव में बीजेपी को दीव नगर निगम चुनावों में मिली हार के बाद पार्टी को बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है। दीव जिला पंचायत अध्यक्ष समेत पांच लोगों ने इस हफ्ते की शुरुआत में बीजेपी से किनारा कर लिया। इस सामूहिक इस्तीफे के बाद बीजेपी की जिला पंचायत की सत्ता को करारा झटका लगा है। इस पर  बीजेपी राज्य चीफ गोपाल टंडेल का कहना है कि फिलहाल किसी भी बीजेपी नेता का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया है लेकिन जल्द ही इस मामले को सुलझा लिया जाएगा। दीव जिला पंचायत अध्यक्ष शशिकांत सोलंकी समेत उपाध्यक्ष अश्विनी बामनिया और जिला पंचायत सदस्य पूजा पंजानी, धनीबेन सोलंकी और जेंतीलाल सोमालाल ने सोमवार को दीव प्रदेश अध्यक्ष बिपिन शाह को अपना इस्तीफा दिया। शाह ने इन लोगों का इस्तीफा मंजूर करते हुए उसे टंडेल के पास भेज दिया। इसके एक घंटे बाद शाह ने भी पंचायत चुनाव के हार की जिम्मेदारी अपने सिर लेते हुए दीव यूनिट चीफ पद से इस्तीफा दे दिया।

इस महीने के शुरुआत में दीव में नगर निगम के चुनाव हुए थे जिसमें कांग्रेस ने 13 सीटों में से 10 सीटों पर अपना कब्जा जमाया। इन चुनावों में बीजेपी को केवल तीन सीटों से ही संतुष्ट होना पड़ा था। जिस दिन इन चुनावों के नतीजे आए थे उसी दिन हार की जिम्मेदारी लेते हुए और नैतिक कृतव्य की बात करते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष किरित वजा ने इस्तीफा दे दिया था। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान बुधवार को शशिकांत सोलंकी ने कहा पार्टी मुझे जिला पंचायत के अध्यक्ष पद से हटाना चाहती है, जबकि मैंने नगर निगम चुनावों में पार्टी के सभी उम्मीदवारों का खुलकर समर्थन किया था। हम अब बीजेपी के साथ जुड़े नहीं रह सकते इसलिए हम किसी अन्य राजनीतिक पार्टी में शामिल होने के लिए जा रहे है।

इस पर बात करते हुए प्रदेश अध्यक्ष टंडेल ने कहा कि अभी न तो किसी भी जिला पंचायत से जुड़े व्यक्ति का इस्तीफा मंजूर किया गया है और न ही शाह और वजा का इस्तीफा मंजूर हुआ है। प्रदेश की होने वाली अगली बैठक में इस मामले पर चर्चा की जाएगी और तभी इन लोगों के इस्तीफे को लेकर कोई फैसला लिया जाएगा। बता दें कि  2015 में हुए पंचायत चुनावों में बीजेपी ने सात सीटों पर अपना कब्जा जमाया था, जबकि कांग्रेस के हाथ एक भी सीट नहीं लगी थी।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.