ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी बोले- ब्रिटिश राज में कांग्रेस से ज्यादा मुश्किल आजादी के बाद BJP ने झेली, हमारे सैकड़ों लोग मारे गए

किसी भी पार्टी ने आजादी के बाद बीजेपी से ज्यादा कुर्बानी नहीं दी है। हमारे सैकड़ों कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतार दिया गया।

Author नई दिल्ली | August 18, 2016 3:33 PM
बीजेपी की नए कार्यालय की आधारशिला कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी। (Photo Source: BJP Twitter Handle)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि बीजेपी ने जितनी मुसीबतें आजादी के बाद झेली हैं उतनी तो कांग्रेस ने आजादी से पहले ब्रिटिश राज में भी नहीं झेली थी। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने जितनी कुर्बानी दी है उतनी किसी और पार्टी ने नहीं दी है। बीजेपी के नए हेडक्वॉर्टर की आधारशिला कार्यक्रम में उपस्थित प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की ताकत बढ़ने साथ ही विभाजनकारी शक्तियां भी अधिक सक्रिय हो गई हैं। उन्होंने कहा कि अब यह सुनिश्चित करना अनिवार्य हो गया है कि समाज एकजुट और सामंजस्यपूर्ण रहे। इस अवसर पर पीएम मोदी के अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और जेटली समेत कई नेता मौजूद रहे।

पीएम मोदी ने पार्टी की प्रतिबद्धता को रेखाकिंत करते हुए कहा कि हमारा उद्देश्य है सबका साथ, सबका विकास। उन्होंने कहा कि बीजेपी एकमात्र ऐसी पार्टी है जो कि जन्म के समय से मुसीबतों का सामना करती आई है। यहां तक की ब्रिटिश राज में कांग्रेस पार्टी ने जितनी दिक्कतें नहीं झेली हैं, उससे ज्यादा दिक्कतें 50-60 साल में हमारे कार्यकर्ताओं ने झेली है। तृणमूल कांग्रेस (TMC) पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी उम्मीदवारों के लिए कोलकाता में ऑफिस लेना बहुत मुश्किल हो गया था। कोई भी उन्हें जगह देने के लिए तैयार नहीं था।

पीएम मोदी ने कहा कि किसी भी पार्टी ने आजादी के बाद बीजेपी से ज्यादा कुर्बानी नहीं दी है। हमारे सैकड़ों कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतार दिया गया, क्योंकि वह उस समय की प्रचलित विचारधारा से नहीं जुड़े थे। बीजेपी कार्यकर्ता भीड़ के लिए नहीं बल्कि संगठन के लिए कार्य करते हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी चर्चित मुद्दे पर भीड़ को इकट्ठा कर सकता है लेकिन जरुरी है कि विचारधारा से लोग जुड़े। पीएम मोदी ने इस अवसर पर रियो ओलंपिक में भारत के लिए मेडल जीतने वाली साक्षी मलिक को शुभकामनाएं भी दी।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App