ताज़ा खबर
 

भाजपा के पूर्व सांसद हरि मांझी ने मुस्लिम मित्रों को दी चेतावनी, कहा- हद में रहें, न‍िजी ट‍िप्‍पणी न करें

'दलितों ने मुस्लिमों को छोड़ दिया। क्या इसी के लिए फ्रस्टेशन है?' पर जवाब देते हुए मांझी ने लिखा, "हम इनके साथ कब थे ? कैसी बात करते हैं।"

भाजपा के पूर्व सांसद हरि मांझी। (फाइल फोटो)

बिहार के गया से भाजपा के पूर्व सांसद हरि मांझी ने अपने ‘मुस्लिम मित्रों’ को चेतावनी देते हुए कहा कि वे हद में रहें और निजी टिप्पणी न करें अन्यथा वे कानूनी कार्रवाई का सहारा लेंगे। दरअसल इस विवाद की शुरुआत दलितों पर की गई एक टिप्पणी को लेकर हुई जिसमें कहा गया था, “मंदिर में घुस पाओगे?? ब्राह्मण तो बोलते हैं कि तुम अछूत हो तुम्हारे छूने से सब पाप हो जाता है। ब्राह्मणों का मानना है कि भगवा जैकेट पहन ने से ब्राह्मण नहीं हो जाता।” इस ट्वीट पर हरि मांझी ने लिखा, “अली मियां मैं मंदिर भी जाता हूं और ब्राह्मण से पूजा भी करवाता हूं । हमारे घर के मैटर में आप इतना दिलचस्पी के रहे है? आखिर काफिरो के लिए इतना प्यार।”

‘दलितों ने मुस्लिमों को छोड़ दिया। क्या इसी के लिए फ्रस्टेशन है?’ पर जवाब देते हुए मांझी ने लिखा, “हम इनके साथ कब थे ? कैसी बात करते है।” इसके बाद उदित राज के ट्वीट पर रिट्वीट करते हुए हरि मांझी ने कहा, “क्या उदित राज इतना नीचे गिर जाएंगे, नरेंद्र मोदी की सरकार को बदनाम करने के लिए ‘बांग्लादेश का चित्र’ ट्वीट कर रहे है। गृहमंत्री अमित शाह, ऐसे ही व्यक्ति अफवाह फैलाकर हिंसा को बढ़ा रहा है। संज्ञान ले। सुखद बात है आज ऐसे अवसरवादी भाजपा में नहीं है।”

भाजपा नेता ने एक और ट्वीट कर लिखा, “मन वो सफ़ेद कपड़ा है जिसे जिस रंग में डुबो दोगे उस पर वही रंग चढ़ जायेगा, और मेरा मन में परम पूज्य भगवा रंग चढ़ा है। मुझे लोकसभा का टिकट 2009में तब के भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने दिया था, फिर 2014 में दिया गया,दोनो बार विजय हासिल हुई।भाजपा का हर कार्यकर्ता के कारण मेरी जीत हुई। शीर्ष नेतृत्व से नीचे तक पार्टी किसी ने भेद नहीं किया। हम सब एक है। संघ परिवार में सरनेम नहीं देखा जाता है।”

इसके बाद एक और ट्वीट में उन्होंने कहा, “मुस्लिम मित्र गाली देना बंद कीजिए, वर्ना मै कानूनी मदद लूंगा । ‘अभिव्यक्ति की आज़ादी का ये मतलब नहीं कि मै गाली सुनूं’ और जब पलटकर बोल दूं तो ‘विक्टिम कार्ड’ खेलना शुरू कर देंगे कि ‘अल्पसंख्यक को बोला जा रहा है’ हद में रहे । निजी टिप्पणी नहीं .. तर्कपूर्ण डिबेट करे।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Kerala Lottery Today Results announced: 75 लाख है आज का बंपर इनाम, कहीं ये टिकट नंबर आपका तो नहीं
2 VIDEO: हम अमन खत्म करना भी जानते हैं- मालेगांव में बोले ओवैसी की पार्टी के विधायक मोहम्मद इस्माइल
3 CMIE Unemployment Rate: मंदी का असर? चार महीने में सबसे ज्‍यादा रही फरवरी में बेरोजगारी दर, CMIE ने द‍िया ताजा आंकड़ा