ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: फडणवीस ने क्यों दिलाई थी अजित पवार को डिप्टी CM पद की शपथ? खुद किया खुलासा; कही ये बात

BJP Fadnavis-NCP Ajit Pawar: फडणवीस ने कहा, ‘‘अजित पवार ने हमसे संपर्क किया और कहा कि एनसीपी कांग्रेस के साथ नहीं जाना चाहती है। तीन दलों (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) का गठबंधन (सरकार) नहीं चल सकता। फडणवीस के मुताबिक, अजित पवार ने यह भी कहा कि उन्होंने इस बारे में शरद पवार से भी चर्चा की है।

devendra fadnavis governmentपूर्व महाराष्ट्रा सीएम देवेंद्र फडणवीस, एनसीपी नेता अजीत पवार (एक्सप्रेस फोटो)

BJP Fadnavis-NCP Ajit Pawar: महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और सदन में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार (7 दिसंबर) को दावा किया कि वह एनसीपी नेता अजित पवार थे जिन्होंने राज्य में सरकार बनाने के लिए उनसे संपर्क किया था। महाराष्ट्र में जब शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच सरकार बनाने के लिए बातचीत चल रही थी तभी अचानक 23 नवंबर को सुबह फडणवीस ने मुख्यमंत्री के तौर पर और अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेकर सबको हैरान कर दिया था। हालांकि यह सरकार 80 घंटे में ही गिर गई थी।

पूर्व सीएम ने कही ये बात: फडणवीस ने समाचार चैनल ‘जी 24 तास’ से बातचीत करते हुए कहा कि अजित पवार ने उन्हें एनसीपी के सभी 54 विधायकों के समर्थन का आश्वासन दिया था। फडणवीस ने कहा, ‘‘ उन्होंने मेरी कुछ विधायकों से बात कराई जिन्होंने मुझसे कहा कि वे भाजपा के साथ जाना चाहते हैं। अजित पवार ने मुझसे यह भी कहा कि उन्होंने इस बारे में (एनसीपी प्रमुख) शरद पवार से भी चर्चा की है।’’

Hindi News Today, 08 December 2019 LIVE Updates: बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

एनसीपी नेता ने किया था संपर्क: पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा, ‘‘अजित पवार ने हमसे संपर्क किया और कहा कि एनसीपी कांग्रेस के साथ नहीं जाना चाहती है। तीन दलों (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) का गठबंधन (सरकार) नहीं चल सकता। हम (एनसीपी) स्थिर सरकार के लिए भाजपा के साथ जाना चाहते हैं।’’ भाजपा नेता ने माना कि यह कदम उल्टा पड़ा और कहा कि आने वाले दिनों में इस बारे में और बातें सामने आएंगी।

घोटाले पर कही ये बात: फडणवीस ने यह भी कहा कि सिंचाई घोटाले में अजित पवार को मिली क्लीन चिट से उनका कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि ‘‘भ्रष्टाचार निरोधक शाखा का हलफनामा 27 नवंबर का है और मैंने 26 नवंबर को इस्तीफा दे दिया था।’’

Next Stories
1 Jharkhand Assembly polls: सीएम रघुबर दास की इमेज ही बन गई बीजेपी के लिए सिरदर्द! सरकारी भर्तियों की कमी भी बनी वजह
2 नाम और डॉक्टर की ड्यूटी के अलावा कुछ भी नहीं बदला
3 अरविंद केजरीवाल ने अपनाया बीजेपी का नारा, बोले- अबकी बार 67 पार
यह पढ़ा क्या?
X