ताज़ा खबर
 

चौटाला परिवार को अमित शाह ने ‘दीमक’ बताया था, दुष्यंत बोले- मुझे भी बंदर कहा गया, ये सिर्फ राजनीतिक बयान

राज्य की किस समस्या पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत वाले सवाल पर दुष्यंत ने बेरोजगारी के मुद्दे को तवज्जो दी। उन्होंने कहा कि राज्य में हमारे पास रोजगार के विशाल अवसर हैं। हमें इस दिशा में काम करने की जरूरत है।

Author चंडीगढ़ | Published on: November 17, 2019 11:23 AM
दुष्यंत चौटाला ने प्रदेश में रोजगार, शिक्षा, किसान, भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बातचीत की। (फोटोः जयपाल सिंह)

हरियाणा में भाजपा एक बार फिर से प्रदेश मे सरकार बना चुकी है। इस बार भाजपा को सरकार बनाने के लिए जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) का समर्थन लेना पड़ा है। जेजेपी की तरफ से दुष्यंत चौटाला नई सरकार में उपमुख्यमंत्री बने हैं। इससे पहले भाजपा और जेजेपी एक दूसरे के खिलाफ जमकर बयानबाजी करते रहे हैं।

भाजपा की तरफ से पीएम मोदी जहां चौटाला परिवार को ‘दीमक’ बात चुके हैं वहीं 11 महीने पुरानी जेजेपी भी भाजपा विरोध के बूते प्रदेश में निर्णायक 10 सीटें जीत पाई है। दोनों दलों की तरफ से इस प्रकार की बयानबाजी के संदर्भ में पूछे जाने पर दुष्यंत चौटाला ने अपने खास राजनैतिक अंदाज में जवाब दिया।

इंडियन एक्सप्रेस के चंडीगढ़ कार्यालय पहुंचे दुष्यंत ने प्रदेश की राजनीति से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से बातचीत की। प्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की तरफ से हुड्डा और चौटाला परिवार को ‘लोकतंत्र का दीमक’ कहे जाने के बयान पर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इस तरह के राजनीतिक बयान पीएम नरेंद्र मोदी नीतीश कुमार के बारे में भी बोल चुके हैं। मुझे भी चुनाव प्रचार के दौरान बंदर कहा गया था। ये सब सिर्फ राजनीतिक बयान हैं।

यह राजनीतिक प्रतिबद्धता नहीं है। यदि मैं कांग्रेस के नेताओं की तरफ से इस तरह के बयानों या उसको समर्थन करने वाले लोगों के बयानों की परवाह करूं। या फिर आप भाजपा विरोधी लोगों के बयान जो आज भाजपा का हिस्सा हैं, के बयानों को लेकर बैठ जाएं तो आप राजनीति नहीं कर सकते हैं।

आपको बड़ा दिल वाला बनना पड़ता है और लोगों को माफ करना होता है। लोगों के कल्याण के लिए और आगे बढ़ने के लिए आपको यह सब भूलना पड़ता है। यह मुख्य बात है। राज्य की किस समस्या पर तुरंत ध्यान देने के सवाल पर दुष्यंत ने बेरोजगारी के मुद्दे को तवज्जो दी।

उन्होंने कहा कि राज्य में हमारे पास रोजगार के विशाल अवसर हैं। हमें इस दिशा में काम करने की जरूरत है। उन्होंने अगले बजट में शिक्षा के क्षेत्र में बजट को ब्रिक्स देशों के समान करने का वादा किया। किसानों के मुद्दे पर दुष्यंत ने कहा कि हमें फसल चक्र बदलने और इस्राइल की तरह वर्टिकल फार्मिंग पर काम करने की जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बाल ठाकरे पुण्यतिथि: जब शिवसेना संस्थापक की कार में कानून मंत्री ने कर दिया पेशाब! पढ़ें पूरा वाकया
2 Jharkhand Election 2019: नीतीश कुमार से दोस्ती बीजेपी के सरयू राय को पड़ी भारी, पार्टी ने काट दिया टिकट!
3 अमेरिकी पैनल ने NRC को बताया ”मुसलमानों के खिलाफ हथियार”, मोदी सरकार पर लगाया गंभीर आरोप
जस्‍ट नाउ
X