ताज़ा खबर
 

गुमान के लायक नहीं है ‘झारखंड-जम्मू कश्मीर’ में भाजपा की सफलता

जदयू के वरिष्ठ नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने झारखंड और जम्मू कश्मीर में जारी विधानसभा चुनाव मतगणना रुझान और आ रहे परिणामों पर आज अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए आज कहा कि इसमें भाजपा को उम्मीद से कम सफलता मिली है और उसके लिए गुमान करने के लायक नहीं है। बिहार […]
Author December 23, 2014 17:12 pm
दिल्ली को मिले पूर्ण राज्य का दर्जा: नीतीश कुमार

जदयू के वरिष्ठ नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने झारखंड और जम्मू कश्मीर में जारी विधानसभा चुनाव मतगणना रुझान और आ रहे परिणामों पर आज अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए आज कहा कि इसमें भाजपा को उम्मीद से कम सफलता मिली है और उसके लिए गुमान करने के लायक नहीं है।

बिहार विधान परिषद परिसर में आज पत्रकारों से बातचीत करते हुए नीतीश ने झारखंड और जम्मू कश्मीर में जारी विधानसभा चुनाव मतगणना रुझान पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि इन प्रदेशों में जो मतगणना के रुझान हैं और वहां के बारे में भाजपा द्वारा जो उम्मीद लगायी जा रही थी उसके हिसाब से उसे इतना कम समर्थन मिलेगा इसकी उम्मीद उन्हें नहीं थी।

नीतीश ने कहा कि खासतौर से झारखंड में भाजपा के खिलाफ कोई कारगर गठबंधन नहीं हो सका था और जो हमलोगों का गठबंधन है वह भी पूरे तौर पर वहां नहीं हो पाया था इसलिए उसको लेकर उन्हें कोई बहुत उम्मीद नहीं थी।

उन्होंने कहा कि उनके गठबंधन में अगर जेएमएम या जेवीएम शामिल होता तब वैसी स्थिति में यह एक मजबूत गठबंधन होता तथा लडाई आमने-सामने की होती।
नीतीश ने कहा कि ऐसी स्थिति जब भाजपा विरोधी मत कई हिस्सों में बिखरा हुआ है, कम वोट पर उन्हें :भाजपा: स्पष्ट जनमत मिलना और ‘क्लीन स्वीप’ करना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि जिस ढंग का चुनाव पूर्व रुझान था उसके हिसाब लगता था कि उन्हें ‘स्वीप’ करना चाहिए पर ऐसे हालात दिख नहीं रहे हैं। ऐसे में भाजपा के लिए गुमान करने के लायक स्थिति नहीं दिखती।

नीतीश कुमार ने कहा कि उनका ठीक ढंग से गठबंधन नहीं होने के कारण उनकी झारखंड में कोई खास दिलचस्पी नहीं थी और वे केवल एक दिन वहां चुनाव प्रचार के लिए गए थे। उन्होंने कहा कि उनके गणित के हिसाब से भी भाजपा को वहां कम सीटें मिली हैं।

इस चुनाव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर के असर होने के बारे में पूछे जाने पर नीतीश ने कहा कि किस ‘वेव’ के सहारे वे (भाजपा) यह चुनाव लड़ रहे थे, प्राप्त हो रहे रुझान से उस पर ही प्रश्न चिन्ह लगेगा। इसके बारे में वे (भाजपा) ही बता सकते हैं। हम कौन होते हैं उनके बारे में टिप्पणी करने वाले।

नीतीश ने भाजपा पर कटाक्ष करते हुए कहा हम उनकी तरह नहीं हैं जो रोज-रोज दूसरे दलों के बारे में प्रतिक्रिया व्यक्त करते रहते हैं लेकिन देश में वह अभी सत्तारूढ दल हैं और जिस ढंग का उन्होंने प्रचार किया और दावे किए गए उसके अनुरूप चुनाव के रुझान और परिणाम नहीं आए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.